fbpx

भारत देश के दो PM जिन्हें नही मिला लालकिले पर तिरंगा फहराने का मौका

भारत देश में 15 अगस्त के मौके पर हर पीएम को लाल किले पर झंडा फहराने का मौका मिलता है लेकिन हमारे देश के में दो ऐसे पीएम भी रहे जिन्हें ये लाल किले पर झंडा फहराने का मौका नहीं मिला।

भारत देश में दो ऐसे नेता जो प्रधानमंत्री तो बने, लेकिन लाल किले से तिरंगा फहराने का सौभाग्‍य इन्‍हें प्राप्‍त नहीं हुआ। इनका नाम है गुलजारी लाल नंदा और चंद्रशेखर।

गुलजारी लाल नंदा दो बार देश के पीएम बने गुलजारी लाल नंदा दो बार देश के पीएम बने लेकिन दोनों बार उनको ये पद कार्यवाहक के रूप में हासिल हुआ था, नंदा दो बार 13-13 दिन के लिए देश के प्रधानमंत्री पद बैठे। पहली बार 27 मई 1964 से 9 जून 1964 तक और दूसरी बार 11 जनवरी 1966 से 24 जनवरी 1966 तक प्रधानमंत्री रहे। पहली बार जब नंदा को प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठने का मौका मिला था, तब पंडित जवाहर लाल नेहरू का निधन हुआ था और दूसरी बार लाल बहादुर शास्त्री की मृत्‍यु के बाद कार्यवाहक प्रधानमंत्री बनाए गए थे। जिस वजह से उन्हें ये मौका नहीं मिला  

ये भी पढ़ें :-  अपनी बचपन की फ्रेंड नताशा दलाल से वरुण धवन करने वाले है डेस्टिनेशन वेडिंग

इसके बाद नम्बर आता है पीएम चंद्रशेखर का  वो 10 नवंबर 1990 से 21 जून 1991 तक भारत के पीएम रहे और वह भी अपने कार्यकाल में तिरंगा झंडा फहराने का सौभाग्‍य प्राप्‍त नहीं कर सके, हालांकि मोरारजी देसाई, चौधरी चरण सिंह, वीपी सिंह, एचडी देवेगौड़ा, इंद्र कुमार गुजराल, लाल बहादुर शास्त्री ज्‍यादा समय तक देश के प्रधानमंत्री पद पर नहीं रहे, लेकिन इन सभी को 1-1 बार और मोरारजी देसाई को दो बार लाल किले पर तिरंगा फहराने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.