fbpx

आर्मी में कुत्तों को वफ़ादारी के बदले दी जाती है मौत

इस बात की जानकारी तो सभी लोगो को है। कुता सबसे ज्यादा वफादार जानवरों में से एक है। लेकिन आर्मी में कुत्तो को वफ़ादारी के बदले मौत दी जाती है

कुत्ते की वफादारी सेना में भी देखने को भी मिलती है, सेना में कई कुत्ते तो ऑफिसर रैंक के भी होते है, लेकिन सेना मे शामिल कुत्ते जब रिटायर होते हैं तब उनको रिटायरमेंट के बाद सेना द्वारा गोली मार दी जाती है।

इस बात का खुलासा आरटीआई ने किया है। उन्होंने बताया है कि कुत्तों को रिटायरमेंट के बाद गोली मार दी जाती है और इसके पीछ सबसे बड़ा कारण होता है सिक्योरिटी रीजन। दरअसल आर्मी का ऐसा मानना है कि रिटायरमेंट के बाद कुत्ते किसी ऐसे आदमी के हाथ न लग जाए जो देश के लिए खतरा बन जाए, क्योंकि कुत्ते को आर्मी के लगभग सभी गुप्त स्थानों के बारे में पता होता है।

वही सेना के हवाले से बताया जाता है कि जब कुत्ते का स्वास्थ्य खराब होता है तो उसका चेकअप करया जाता है, लेकिन अगर इलाज के एक एक महीने तक कुत्ते की हालत में सुधार नहीं होती है तब उसे गोली मार दी जाती है।

ये भी पढ़ें :-  पाकिस्तान:- ईशनिंदा के मामले में हिंदू को पीटा साथ ही मन्दिर में की तोड़फोड़

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.