fbpx

2 सितंबर को आएंगे बप्पा जानिए कैसे करें स्थापना और मुहूर्त का शुभ समय

हिन्दुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक गणेश चतुर्थी है। गणेश चतुर्थी को विनायक चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। कहा जाता है कि इसी दिन बुद्धि, समृद्धि और सौभाग्ये के देवता श्री गणेश का जन्मय हुआ था। इस त्योहार को देश भर में खास तौर से महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में बहुत ही हर्षोल्लास, उमंग और उत्साह के साथ मनाया जाता है।

गणेश उत्सव को लेकर लोग बहुत उत्साहित है। तो, आइए आपको बताते हैं मूर्ति की स्थापना का शुभ मुहूर्त और पूजा का समय

गणेश चतुर्थी की तिथि: 02 सितंबर 2019

गणेश चतुर्थी तिथि प्रारंभ: 02 सितंबर 2019 को सुबह 4 बजकर 57 मिनट से।

गणेश चतुर्थी तिथि समाप्त: 03 सितंबर 2019 की रात  01 बजकर 54 मिनट तक।

गणपति की स्थापना और पूजा का समय: 02 सितंबर की सुबह 11 बजकर 05 मिनट से दोपहर 01 बजकर 36 मिनट तक।

02 सितंबर को चंद्रमा नहीं देखने का समय: सुबह 08 बजकर 55 मिनट से रात 09 बजकर 05 मिनट तक

ये भी पढ़ें :-  कर्नाटक:- अयोग्य विधायकों को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया फैसला

ऐसे करें स्थापना

  • गणपति की स्थापना गणेश चतुर्थी के दिन मध्यासह्न में की जाती है। कहते हैं कि गणपति का जन्मी मध्यानह्न काल में हुआ था। इस दिन चंद्रमा नहीं देखना चाहिए। बप्पा की स्थापना ऐसे करें।
  • गणपति की स्थापना करने से पहले स्नान करने के बाद नए या साफ धुले हुए बिना कटे-फटे वस्त्र् पहनने चाहिए।
  • इसके बाद अपने माथे पर तिलक लगाएं और पूर्व दिशा की ओर मुख कर आसन पर बैठ जाएं।
  • आसन कटा-फटा नहीं होना चाहिए।
  • पत्थकर के आसन का इस्तेचमाल न करें।
  • इसके बाद गणेश जी की प्रतिमा को किसी लकड़ी के पटरे या गेहूं, मूंग, ज्वार के ऊपर लाल वस्त्रा बिछाकर स्थापित करें।
  • गणपति की प्रतिमा के दाएं-बाएं रिद्धि-सिद्धि के प्रतीक स्वमरूप एक-एक सुपारी रखें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.