fbpx

जानिए कौन है दिल्ली मेट्रो की आवाज, अगला स्टेशन…

दिल्ली मेट्रो दिल्लीवासियों के लिए एक वरदान है। दिल्ली के लाखों लोग रोजाना दिल्‍ली मेट्रो सफ़र करते है। दिल्ली मेट्रो में हर जरूरी जानकारी की सूचना यात्रियों को मेट्रो स्‍टेशन पर ही अनाउंसमेंट के जरिए मिल जाती है। लेकिन मेट्रो में निरंतर होने वाली घोषणाओं के पीछे किसकी आवाज है उन्हें कोई जनता  

दिल्ली मेट्रों में यात्रा के दौरान जिस पुरुष की आवाज़ आपको लगातार हिन्दी में सुनाई देती है, वो पुरुष की आवाज शम्‍मी नारंग की है शम्‍मी नारंगकि आईआईटी दिल्ली से पोस्‍ट ग्रेजुएशन कर चुके शम्‍मी नारंग की है। जब नारंग 19 साल के थे और वो कैंपस में इधर-उधर टहल रहे थे, तब आचानक उन्हें एक विदेशी इंजीनियर ने माइक्रोफोन के ध्वनि परीक्षण के लिए बुलाया और माइक्रोफोन में नारंग को कुछ भी कहने को कहा। जब नारंग ने माइक्रोफोन पर कुछ शब्द कहे, तो वो विदेशी इंजीनियर हैरान रह गया, जिसके बाद उसने शम्मी नारंग को ‘वॉयस ऑफ अमेरिका’ के हिन्दी विभाग में मौका दिया। वह संयुक्त राज्य अमेरिका के सूचना सेवा (यूएसआईएस) में तकनीकी निर्देशक तह इसके बाद वे बाद में दूरदर्शन का चेहरा बन गए, जो 70 के दशक का इकलौता चैनल था। शम्मी नारंग अकेले ही शख़्स थे, जिन्हें दूरदर्शन ने 10,000 लोगों के बीच से न्यूज रीडर के लिए चुना था।

ये भी पढ़ें :-  पाकिस्तान:- ईशनिंदा के मामले में हिंदू को पीटा साथ ही मन्दिर में की तोड़फोड़

वही अंग्रेजी भाषा में जिस महिला की आवाज़ आप ‘दिल्ली मेट्रो’ में सुनते हैं, वो रिनी साइमन खन्ना की है। रिनी का जन्म केरल में हुआ था। इनके पिता भारतीय वायु सेना के एक अधिकारी थे, जिसके कारण रिनी को देश के नौ अलग-अलग स्कूलों में पढ़ाई करनी पड़ी। इन्होंने 1985-2001 तक दूरदर्शन में न्यूज एंकर के रूप में, और बाद में एक वीओ आर्टिस्‍ट और एक एंकर के रूप में काम किया।

शम्मी नारंग ने बताया जब मेट्रो के ट्रायल शुरू करने के बाद डीएमआरसी की एक मीटिंग चल रही थी तो उस दौरान डीएमआरसी के पूर्व चैयरमेन  श्रीधरन बैठे हुए थे और उन्होंने कहा कि एक लड़का है जो काफी अच्छा पढ़ता है उसकी आवाज काफी अच्छी है और लड़कियों में रिनी सिमोन खन्ना की आवाज बेहतरीन है। जिसके बाद मेट्रो के लिए इन दोनों की आवाजों का ट्रायल लिया गया। शम्मी ने बताया कि मुझे और रिनी को ये भी नहीं मालूम था कि ‘अगला स्टेशन’ के बाद क्या बोलना है। लेकिन ट्रायल के बाद सभी ने हम दोनों की आवाज को खूब पसंद किया। नारंग ने बताया दिल्ली, गुड़गांव और नोएडा हम दोनों के हिस्से में आ गया था।  जिसके बाद मेट्रो में हमारी आवाज में अनाउंसमेंट होने लगी। ये हमारे लिए गर्व की बात है। शम्मी ने एक इंटरव्यू ने बताया कि ये कहना गलत नहीं होगा कि मेट्रो ने हमारी आवाज को अमर कर दिया है। जब तक मेट्रो रहेगी हमारी आवाज भी रहेगी।

ये भी पढ़ें :-  'पूरे देश की एक भाषा होना अत्यंत आवश्यक': अमित शाह
Subscribe Our YouTube Channel
Subscribe Our YouTube Channel

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.