fbpx

ग्रीन-टी पीने वाले लोग इन बातों का रखें ध्यान

पतला होना हर कोई चाहता है फिर बहाना पुरानी फेवरिट ड्रेस में वापस से फिट होना हो या दोस्त या रिश्तेदार की शादी में फ्लैट टमी को फ्लॉन्ट करना हो । ये सब करने के लिए सबसे पहले अपनी डायट में ग्रीन टी को शामिल करते हैं।

शायद यही वजह है कि ग्रीन टी, दुनियाभर में मैजिकल चाय के रूप में मशहूर हो गई है। बहुत सी स्टडीज में ग्रीन टी के फायदों के बारे में भी बताया गया है। लेकिन ग्रीन टी पीते वक्त आपको कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए और साथ ही एक दिन में 2-3 कप से ज्यादा ग्रीन टी भी नहीं पीनी चाहिए

ज्यादातर लोगों को सबसे बड़ी गलतफहमी ये होती है कि खाने के तुरंत बाद ग्रीन टी पीने से खाने से शरीर को मिली कैलरीज जादुई तरीके से गायब हो जाएगी। लेकिन इस बात में कोई सच्चाई नहीं है और यह बात पूरी तरह से गलत है। खाना खाने के बाद भोजन में मौजूद प्रोटीन को पचने में वक्त लगता है। ऐसे में अगर आप खाने के तुरंत बाद ग्रीन टी पी लेते हैं तो पाचन की इस प्रक्रिया में रुकावट आती है जिससे डाइजेशन से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं। लिहाजा खाने के तुरंत बाद ग्रीन टी पीने से बचें।

ये भी पढ़ें :-  इस खास जगह पर अपना जन्मदिन मनाएंगे पीएम मोदी

बहुत से लोग ऐसे होते हैं जिन्हें बेहद गर्म चाय पसंद होती है। कप में छानी और बस मुंह तक पहुंच गई। लेकिन ग्रीन टी के मामले में ऐसा बिलकुल नहीं करना चाहिए। बहुत ज्यादा गर्म ग्रीन टी पीने से न सिर्फ उशका स्वाद बिगड़ जाता है बल्कि इससे आपके गले और पेट को भी तकलीफ पहुंच सकती है। ग्रीन टी पीने का ज्यादा से ज्यादा लाभ मिले इसके लिए जरूरी है कि आप इसे गुनगुना ही पिएं।

बहुत से लोग ग्रीन टी को और ज्यादा हेल्दी बनाने के लिए उसमें शहद डालकर पीना पसंद करते हैं। लेकिन जिस तरह बहुत ज्यादा गर्म ग्रीन टी पीना नुकसादेह हो सकता है, ठीक उसी तरह ग्रीन टी को उबालते वक्त अगर आप उसमें शहद डाल देते हैं तो इससे शहद की न्यूट्रिशनल वैल्यू खत्म हो जाती है। ऐसे में जब ग्रीन टी का टेंपरेचर थोड़ा कम हो जाए तब उसमें शहद और दालचीनी मिलाकर पिएं।

ये भी पढ़ें :-  दुनिया का सबसे पहला श्राद्ध

बहुत से लोगों को आपने देखा होगा कि जो सुबह की दवाइयों को पानी की बजाए ग्रीन टी के साथ ले लेते हैं। ऐसा बिलकुल न करें और यह आपकी सेहत के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। दवाइयों का केमिकल कॉम्पोजिशन, ग्रीन टी के साथ मिलकर ऐसिडिटी की समस्या पैदा कर सकता है। लिहाजा रेग्युलर दवा खाने के लिए पानी का ही इस्तेमाल करें।

मार्केट में इस वक्त आपके स्वाद और टेस्ट को ध्यान में रखते हुए ग्रीन टी के ढेरों फ्लेवर्स मिल रहे हैं। बहुत सी ग्रीन टी तो ऐसी होती है कि सिर्फ उसकी बिक्री बढ़े इसके लिए उसमें ढेर सारे आर्टिफिशल फ्लेवर मिला दिए जाते हैं। ये सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकता है। लिहाजा नैचुरल फ्लेवर वाली ग्रीन टी का सेवन ही बेहतर है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.