fbpx

ट्रेड वॉर से ‘अमेरिका की वल्ले-वल्ले, चीन की हालत पतली’

अमेरिका और चीन के बीच पिछले एक साल से ट्रेड वॉर जारी है। दोनों देश एक दूसरे के सामान पर ज़्यादा ड्यूटी लगा रहे हैं। ज़ाहिर सी बात है कि बिज़नेस में जब भी ऐसे हालात होते हैं तो बिज़नेस पर बुरा प्रभाव ही पड़ता है। वैसे भी ग्लोबल मार्केट में मंदी का दौर है और दोनों देशों की कंपनियों का कहना है की इससे उन्हें नुकसान ही हो रहा है।

इसके विपरीत अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने दावा किया है कि ट्रेड वॉर से अमेरिका को खरबों डॉलर का फ़ायदा हुआ है जबकि चीन को इससे भी ज़्यादा नुकसान हुआ है और इसके साथ ही चीन में 30 लाख से ज़्यादा नौकरियां भी चली गयी हैं। इसके अलावा कई कंपनियों ने भी चीन से बाहर का रुख़ कर लिया है। ट्रंप का मानना है कि अमेरिका की ये नीति उनकी अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी साबित हुई है जबकि इससे चीन को बहुत नुकसान उठाना पड़ा है।

ये भी पढ़ें :-  कर्नाटक में डीआरडीओ का रुस्तम 2 यूएवी क्रैश

दोनों देश एक दूसरे के सामानों पर अरबों डॉलर की ड्यूटी थोप रहे हैं। हालांकि इस बीच दोनों देशों के बीच कुछ बैठकें भी हुई हैं। दोनों देश समझौते के लिए आगे भी बढ़े लेकिन नतीजा अभी तक कुछ नहीं निकला है।
ट्रंप ने मीडिया से बात करते हुए चीन की ओर इशारा करके कहा कि हमें टेक्नोलॉजी की चोरी पर लगाम कसनी होगी। टेक्नोलॉजी चोरी के मामले में चीन के मुकाबले अमेरिका बेहतर काम कर रहा है। मंदी पर बोलते हुए ट्रंप ने कहा कि ये सब अफवाहें हैं। ट्रंप ने उम्मीद जताई कि शेयर बाजार नई ऊंचाई को छुएगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.