fbpx

थाने में तीन महिलाओं को किया निर्वस्त्र, राष्ट्रीय महिला आयोग ने उठाया कदम

राष्ट्रीय महिला आयोग ने असम के दार्रांग जिले में एक पुलिस चौकी में तीन महिलाओं को कथित तौर पर निर्वस्त्र करने और उनकी पिटाई के आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ बुधवार को राज्य पुलिस से कड़ी कार्रवाई करने की मांग की।

दरअसल, आयोग ने इस मामले में स्वत: संज्ञान लेते हुए महिलाओं के साथ हुए व्यवहार की कड़ी निंदा की। उसने यहां एक बयान जारी कर बताया कि राज्य के पुलिस महानिदेशक से मामले में तत्काल कार्रवाई करने और यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि आरोपी अधिकारियों को सख्त सजा मिले।

इस मामले में दो पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। आयोग के मुताबिक यह घटना इसलिए भी दुखद है क्योंकि इसे पुलिस अधिकारियों ने अंजाम दिया है जिन पर निष्पक्ष रूप से कानून-व्यवस्था बनाये रखने और जनता विशेष तौर पर महिलाओं की रक्षा का दायित्व है।

उसने कहा कि पुलिसकर्मियों ने जिन महिलाओं के साथ दुव्र्यवहार किया, वे किसी अपराध में लिप्त नहीं थी बल्कि उन पर अपने भाई को बचाने का आरोप है जो एक महिला को भगा कर ले गया है। महिला आयोग ने कहा कि इस घटना में शामिल पुलिसकर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए ताकि वे भविष्य में किसी ऐसी घटना की पुनरावृत्ति नहीं करें।

ये भी पढ़ें :-  सोनिया गांधी की 'कांग्रेस थिंक टैंक ग्रुप' के साथ मीटिंग

रिपोर्ट के मुताबिक तीनों बहनों ने असम पुलिस पर दार्रांग जिले की पुलिस चौकी में उत्पीडऩ करने, निर्वस्त्र करने और पिटाई का आरोप लगाया है। इनमें से एक महिला का दावा है कि वह गर्भवती थी और पिटाई के कारण उसका गर्भपात हो गया। इन महिलाओं को पुलिस ने उनके भाई के खिलाफ एक महिला को अगवा करने के मामले में नौ सितंबर को हिरासत में लिया था।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.