fbpx

नोबेल विजेता:- ‘कॉरपोरेट टैक्स में कटौती से मैं निराश हूं’

नोबेल विजेता अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी ने कहा है कि भारत जैसे देश में अमीरों पर ज़्यादा tax और गरीबों को आर्थिक लाभ पूरी तरह तर्क संगत हैं। बनर्जी ने कहा कि सरकार को यह देखना होगा कि इकोनॉमी अच्छे से चले और गरीबों के प्रति उदार रहे। उन्होंने कहा कि “मुझे नहीं लगता है कि हाई टैक्स रेट से अमीर हतोत्साहित होते हैं। हमें वेलफेयर स्टेट के लिए ज्यादा टैक्स लगाना होगा, ता‍कि अर्थव्यवस्था स्थि‍र हो, लोगों का रोजगार न छिने। इसलिए कॉरपोरेट टैक्स में कटौती से मैं निराश हूं।”

अभिजीत बनर्जी ने कहा है कि देश के जिन शिक्षित युवा का समर्थन मोदी जी को मिला है वो गरीबों को राहत देने के ख़िलाफ़ नहीं हैं। लोगों ने देखा की देश को मज़बूती कौन दे सकता है इसी आधार पर चुनाव लड़ा गया और लोगों ने इसीलिए मोदी जी को चुना है।

बनर्जी ने कहा, ‘मैं एक मिडल क्लास फैमिली से हूं, लेकिन मेरे दादा जी ने जो मकान बनवाया वह संयोग से कोलकाता के सबसे बड़े स्लम के पास था। इस तरह मैं स्लम के बच्चों के साथ बड़ा हुआ, इसलिए गरीबी का काफी फर्स्ट हैंड एक्सपीरियंस रहा। हम अपने घर में गरीबों के जीवन पर चर्चा करते थे।’

ये भी पढ़ें :-  अयोध्या केस:- इन 5 जजों की बेंच ने सुनाया फैसला

अभिजीत बनर्जी ने कहा है कि गरीबों को सहानुभूति से देखने की जरूरत है। उन्होंने कहा, ‘यह हमारे देश की लंबे समय से परंपरा रही है, सरकारें जनता को राहत देती रही हैं। ऐसा नहीं है कि लोग आलसी हैं इसलिए गरीब हैं, लोग मेहनत कर रहे हैं, लेकिन जॉब चली गई तो लोग क्या करेंगे? भारत को ऐसे पश्चिमी विचारों को अपनाने की जरूरत नहीं कि गरीब ऐसे आलसी लोग होते हैं जो बेहतर जीवन हासिल करने के लिए मेहनत नहीं करना चाहते।’

भारतीय अर्थव्यवस्था मंदी के दौर से गुज़र रही है। ऐसे समय में सरकार जो भी कदम उठा रही है वो पूंजीपतियों के हित में ज़्यादा हैं बजाय जनता के। अर्थव्यवस्था में मंदी का अहम कारण मांग में कमी का होना है। अगर सरकार मंदी के प्रति वाकई गंभीर है तो उसे ऐसे कदम उठाने चाहिए जिससे मांग में बढ़ोतरी हो। मांग में बढ़ोतरी के लिए जनता की क्रय शक्ति (purchasing power) को बढ़ाना होगा। मगर सरकार जो भी कदम उठा रही है वो सब अमीर पूंजीपतियों के हित में हैं। corporate tax में कटौती करके सरकार ने सिर्फ अमीर पूंजीपतियों को राहत दी है न कि गरीबों को। ऐसे में जब सरकार पर crony capitalism का इलज़ाम लगता है तो उसे कैसे झुठलाया जा सकता है।

ये भी पढ़ें :-  पिता की एक गलती से खौलती हुई कढ़ाई में जा गिरी 5 साल की मासूम

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.