fbpx

करें करेले के रस का सेवन होगा फैट बर्न

अगर किसी को करेले का सेवन करने के लिए कहा जाए तो शायद ही कोई व्यक्ति खुश होकर इसे खाए। इसकी वजह होती है इसका स्वाद। इसका कड़वा स्वाद किसी को भी पसंद नहीं आता|

लेकिन वास्तव में यह स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा होता है। अगर आप बड़ी-बड़ी बीमारियों को खुद से दूर रखना चाहते हैं तो करेले के रस का सेवन अवश्य करें। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में-

  • करेले का रस फैट बर्न करने में सहायक है। शरीर में वसा या वसा ऊतक रासायनिक रूप से फैटी एसिड की जुड़ी श्रृंखलाओं से बना होता है। करेले के रस में एंजाइम होते हैं जो फैट को फ्री फैटी एसिड में तोड़ते हैं। इससे शरीर से फैट कम होने लगता है।
  • यह फैटी एसिड संश्लेषण के लिए आवश्यक एंजाइमों के स्तर को भी कम करता है, जिसके परिणामस्वरूप फैट का प्रोडक्शन कम होने लगता है।
  • मधुमेह रोगियों को तो विशेष रूप से करेले के रस का सेवन करने की सलाह दी जाती है।करेला अग्नाशयी बीटा कोशिकाओं की रक्षा करत है जो इंसुलिन को स्टोर और रिलीज करते हैं। इंसुलिन ब्लड में ग्लूकोज के लेवल को रेग्युलेट करने के लिए जरूरी होता है।
  • करेले का रस पित्त रस के स्राव के लिए लीवर को प्रोत्साहित करता है। ये फैट मेटाबॉलिज्ज्म में सहायता करता है। यह प्रक्रिया आम तौर पर उन लोगों में दुर्बल होती है जो मोटे या अधिक वजन वाले होते हैं।
  • करेले का रस शरीर से टॉक्सिन को बाहर निकालने का काम भी करता है, जिससे व्यक्ति का वजन तो कम होता है ही, साथ ही कई गंभीर बीमारियों से भी बच जाता है।
  • यूएसडीए के अनुसार 100 ग्राम करेले के रस में सिर्फ 34 कैलोरी होती हैं। करेले में मौजूद लेक्टिन भूख को दबाता है।
ये भी पढ़ें :-  इस वजह से नहीं मनाएंगी सोनिया गांधी अपना जन्मदिन

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.