fbpx

इन गंभीर बीमारियों के लिए रामबाण है ये साग, सर्दियों में जमकर खाएं; जानें इसके फायदे

सर्दियों में पालक का सेवन आपकी सेहत के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। जानते हैं पालक की खूबियों के बारे म अच्छे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक प्रमुख पोषक तत्वों को पालक के सेवन से प्राप्त किया जा सकता है।

ब्लड प्रेशर का नियंत्रण

पालक में पर्याप्त मात्रा में पोटेशियम पाया जाता है और सोडियम कम होता है। इसलिए पालक हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में सहायक है। पालक के सेवन से हड्डियां भी मजबूत होती हैं।

पालक एंटीऑक्सीडेंट्स का अच्छा स्रोत है और आयुर्वेद के अनुसार इसमें औषधीय गुण भी प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। पालक स्वास्थ्य के लिए पोषक तत्वों से भरपूर एक उत्कृष्ट सुपरफूड है। इसमें विटामिंस, मिनरल्स और फाइट्रो न्यूट्रीएंट्स पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं और साथ ही इसमें कैलोरी भी काफी कम होती है। पालक एनीमिया या खून की कमी को दूर करती है।

सौंदर्य को निखारे

एंटीऑक्सीडेंट्स की उपस्थिति के कारण पालक खाने से त्वचा में कसाव आता है तथा झुर्रियां नहीं पड़ने पातीं। युवतियां यदि अपने चेहरे का नैसर्गिक सौंदर्य और लालिमा बढ़ाना चाहती हैं, तो उन्हें नियमित रूप से पालक के रस का सेवन करना चाहिए।

ये भी पढ़ें :-  अब DL और RC से लिंक कराना होगा मोबाइल नंबर

सशक्त होता है प्रतिरोधक तंत्र

पोषक तत्वों की कमी थकान का कारण बन सकती है और आपके शरीर के रोग प्रतिरोधक तंत्र को प्रभावित कर सकती है। पालक के प्रयोग से शरीर का रोग प्रतिरोधक तंत्र सशक्त होता है। पालक खाने से ब्रेस्ट कैंसर के विकसित होने के खतरे को 44 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि पालक में बीटा-कैरोटीन और विटामिन ए प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।

विटामिन ए का पर्याप्त मात्रा में सेवन आंखों को स्वस्थ रखने में सहायक है। इसके अलावा, पालक में मौजूद फोलेट और फाइबर भी कैंसर होने के जोखिम को कम करते हैं। पालक के संदर्भ में एक खास बात यह है कि इसमें ऊर्जा बढ़ाने वाली नाइट्रेट होती है, जो मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करती है। नाइट्रेट कोशिकाओं के सुचारु रूप से कार्य करने में भी सहायक है।

पालक में क्लोरोफिल भी पाया जाता है, जो लिवर और कोलन (बड़ी आंत) से विषाक्त पदार्थों को निकालने में अत्यंत मददगार है। इसके अलावा क्लोरोफिल में जीवाणुरोधी गुण भी मौजूद होते हैं।

ये भी पढ़ें :-  महाभारत रहस्य: मां के गर्भ से नहीं अग्निकुंड से प्रकट हुई थी द्रौपदी, जानिए और भी बहुत सारी रोचक बातें

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.