fbpx

51 आरोपी देश छोड़कर भागे देश को लगाया हजारों करोड़ का चूना

भारत देश में अब तक कई सारे बड़े घोटाले हो चुके है। भारत देश में कई सारे ऐसे  लोग जो हजारों करोड़ की धोखाधड़ी कर देश छोड़कर भागे हुए हैं। इन लोगों धोखाधड़ी से जुटाई गई रकम 17947.11 करोड़ रुपये है।

धोखाधड़ी करने और देश छोड़कर भागने वालों में पीएनबी घोटाले के आरोपी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी समेत शराब कारोबारी विजय माल्या का नाम भी शामिल है। आर्थिक अपराध के इन आरोपियों में से कई के बारे में सरकार को पूरी जानकारी है तो कुछ की तलाश जारी है।

नीरव मोदी

नीरव मोदी ब्रिटेन की जेल में बंद है। एक तरफ जहां भारत उसको प्रत्‍यर्पित करने की कोशिश कर रहा है वहीं पीएनबी से जुड़े दो अरब डॉलर के धोखाधड़ी और धनशोधन मामले का यह आरोपी इस प्रर्त्‍यपण की कोशिश के खिलाफ मुकदमा लड़ रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो नवंबर में हुई मामले की सुनवाई के दौरान उसने कोर्ट में यहां तक कहा था कि यदि उसको भारत भेजा जाता है तो वह खुद का मारने से नहीं चूकेगा।

ये भी पढ़ें :-  एयर इंडिया को बेचना पूरी तरह देशविरोधी है, मैं इसके खिलाफ कोर्ट जाऊंगा: सुब्रमण्यम स्वामी

मेहुल चौकसी

मेहुल चौकसी पर भी पीएनबी से 14 हजार करोड़ की धोखाधड़ी करने का आरोप है। वह इस मामले का खुलासा होने से कुछ पहले देश छोड़कर भाग गया था। फिलहाल वह एंटीगुआ-बारबुडा में है और उसको वहां की नागरिकता हासिल है।

विजय माल्या

विजय माल्या इस समय ब्रिटेन में ही है। आपकी जानकारी के लिए यहां पर ये भी बता दें कि 15 जुलाई 2018 इस तरह के अपराध कर देश छोड़ने वालों की संख्‍या 31 थी। इसका अर्थ ये है कि 16 माह के दौरान 20 अन्‍य आर्थिक अपराधी देश छोड़कर भागे हैं। जुलाई 2018 में यह जानकारी तत्‍कालीन विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने लोकसभा में दी थी। 

धोखाधड़ी के इन आरोपियों के बारे में वित्त राज्यमंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने राज्‍यसभा में जानकारी दी है। उन्‍होंने भगोड़े आर्थिक अपराधियों से जुड़े एक सवाल के लिखित जवाब में यह जानकारी संसद को मुहैया करवाई हैं। उन्‍होंने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की रिपोर्ट के हवाले से बताया है कि दिसंबर 2019 तक आर्थिक अपराध के 66 मामलों में 51 आरोपियों ने देश छोड़कर अन्‍य देशों में शरण ले रखी है। इन आरोपियों ने देश को हजारों करोड़ का चूना लगाया है।

1 total views, 1 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.