fbpx

दिल्ली के 22 साल के इतिहास में 7 बड़े हादसे- जब आगजनी ने ली 148 लोगों की जान

दिल्ली के अनाज मंडी बिल्डिंग में आग लगने से 43 लोगों की मौत हो गई। वहीं 50 से ज्यादा लोग घायल हुए। मरने वालों में ज्यादातर लोग बैग बनाने वाले मजदूर थे। दिल्ली के रिहायशी इलाके में आग से यह कोई पहला हादसा नहीं था। इससे पहले भी दिल्ली में कई बार आग से आम लोगों की जानें जा चुकी हैं। दिल्ली में आग से सबसे बड़ा हादसा 22 साल पहले हुआ था। 1997 में उपहार सिनेमा में लगी आग में 59 लोगों की मौत हुई थी। वहीं 100 से ज्यादा घायल हुए थे।

दिल्ली-एनसीआर में कब-कब आग से बड़ी दुर्घटनाएं हुईं?

  1. अगस्त 2019:- दक्षिण-पूर्वी दिल्ली के जाकिर नगर में रिहायशी इमारत में आग। 6 लोगों की मौत, इनमें तीन बच्चे शामिल। अफसरों के मुताबिक, आग इलेक्ट्रिक मीटर में शॉर्ट सर्किट की वजह से भड़की।
  2. फरवरी 2019:- दिल्ली के करोल बाग स्थित होटल की चौथी मंजिल में भयानक आग। 17 लोगों की मौत, 35 घायल हुए। इनमें एक बच्चे समेत तीन लोगों की छत से कूदने से मौत हुई। 
  3. अप्रैल 2018:- शहादरा के एमएस पार्क में आग लगी। पास ही मौजूद 300 झुग्गियां जलीं। एक लड़की की मौत।
  4. अप्रैल 2018:- उत्तर-पश्चिम दिल्ली के कोहत एनक्लेव में आग से एक ही परिवार के चार लोगों की मौत हुई, इनमें दो बच्चे शामिल।
  5. जनवरी 2018:- दिल्ली के बवाना इंडस्ट्रियल एरिया में पटाखा फैक्ट्री में आग। तीन मंजिला यूनिट में 50 लोग फंसे। इनमें 17 की मौत हुई। दमकल विभाग के मुताबिक, ज्यादातर लोग जलने से मरे, वहीं कुछ लोगों की मौत दम घुटने से भी हुई। 
  6. जून 1997:- उपहार सिनेमा में बॉर्डर फिल्म के शो के दौरान आग लगी। इसमें 59 लोगों की मौत हुई। 100 से ज्यादा घायल। 

1 total views, 1 views today

ये भी पढ़ें :-  CAA के बाद अगर NRC और NPR लागू होता है तो ये जिन्ना की जीत होगी: शशि थरूर

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.