fbpx

बीस सालों में ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री की सबसे बड़ी गिरावट

पिछले साल अर्थव्यवस्था में ज़बरदस्त सुस्ती का दौर रहा। यहाँ सबसे ज़्यादा असर ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री पर पड़ा है। पिछले साल हर तिमाही में गाड़ियों की बिक्री के आंकड़ों ने गिरावट के नए-नए रिकॉर्ड बनाये।

अब साल बीत जाने के बाद उद्योग संगठन Society of Indian Automobile Manufacturers (SIAM) यानी सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (सियाम) के आंकड़े आने बाद ये तस्वीर और निराशाजनक हो गयी है।

साल 2019 में घरेलू बाजार में Passenger vehicle (यात्री वाहन) की बिक्री पिछले साल 12.75 फीसदी घटकर 2,962,052 इकाई रह गई। ये गिरावट 20 सालों से ज्यादा के दौरान इंडस्ट्री में सबसे बड़ी गिरावट है। आर्थिक गतिविधियों के धीमा होने, गाड़ियों की ज्यादा कीमतें और लोन देने के मानदंडों को कड़ा करने की वजह से मांग में कमी आई।

उद्योग संगठन Society of Indian Automobile Manufacturers (SIAM) यानी सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (सियाम) के द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार commercial vehicle (वाणिज्यिक वाहन) की बिक्री 15 फीसदी गिरकर 854,759 इकाई रही।

ये भी पढ़ें :-  Delhi Election 2020: चुनाव आयोग ने BJP उम्मीदवार कपिल मिश्रा के खिलाफ दर्ज कराई FIR

साल 2019 में दोपहिया वाहनों की बिक्री 14.19 फीसदी घटकर 18,568,280 इकाई रह गई। स्कूटर की बिक्री 16.03 फीसदी घटकर 5,841,259 इकाई रह गई, जबकि मोटरसाइकिल की बिक्री 12.92 फीसदी घटकर 12,012,896 इकाई रह गई।

ऑटोमोबाइल की बिक्री सभी श्रेणियों में पिछले साल 13.77 फीसदी घटकर 23,073,438 इकाई रह गई।

पिछले साल ऑटोमोबाइल उद्योग जगत के लोग सरकार से GST दरों में कटौती करने की बात कहते रहे हैं। पिछले साल ही देश की प्रमुख कंपनियों के प्लांट में पहली बार काम ठप हुआ। मगर सरकार हर बार की तरह इसे भी नज़रअंदाज़ करती रही।

अब कल ही प्रधानमंत्री ने कहा है कि अर्थव्यवस्था सुधारने के लिए जो भी सुझाव होंगे उन पर ग़ौर किया जायेगा।

जाहिर है इंडस्ट्री से जुड़े लोग उन्हें अपने सुझाव ज़रूर देंगे और उम्मीद की जा सकती है कि उन पर अमल भी होगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.