fbpx

AAP और BJP में VIDEO वॉर, CM केजरीवाल को भेजा गया है 500 करोड़ का नोटिस

आम आदमी पार्टी (AAP) और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के बीच एक वीडियो वॉर चल रहा है। हालांकि चर्चा तब शुरू हुई जब बीजेपी ने दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) को 500 करोड़ की मानहानि का नोटिस भिजवा दिया। जिस वीडियो से नाराज होकर बीजेपी ने केजरीवाल को 500 करोड़ के हर्जाने का नोटिस भिजवाया है। उस वीडियो में कैंपेन तो आम आदमी पार्टी का ही बज रहा है लेकिन वीडियो दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी की भोजपुरी फिल्मों के इस्तेमाल किए गए हैं।

लेकिन इस वीडियो भरी जंग को समझने के लिए हमें थोड़ा सा पीछे जाना पड़ेगा। सबसे पहले 8 जनवरी को आम आदमी पार्टी ने एक वीडियो जारी किया, जिसमें एक सीमेंट कंपनी के विज्ञापन का इस्तेमाल करते हुए अरविंद केजरीवाल को ‘केजरीवॉल’ दिखाया गया। एक ऐसी दीवार जिस को तोड़ने की सब कोशिश कर रहे हैं चाहे वह कांग्रेस हो या बीजेपी लेकिन वह टूट नहीं रही।

ये भी पढ़ें :-  ईवी रामासामी पेरियार पर रजनीकांत की टिप्‍पणी से मचा है हंगामा, जानें कौन हैं वो

इसके बाद 9 जनवरी को बीजेपी ने इसी विज्ञापन को राष्ट्रवाद के तौर पर दिखाया। और दिखाया कि यह दीवार राष्ट्रवाद की दीवार है जिसको केजरीवाल और कन्हैया कुमार नाम के दो भाई तोड़ने में लगे हैं लेकिन वो टूट नहीं रही।

फिर 10 जनवरी को बीजेपी ने एक वीडियो जारी किया, जिसमें एक निजी न्यूज चैनल के शो का नाम बदलकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर तंज कसा गया।

इसके जवाब में आम आदमी पार्टी ने 11 जनवरी को अपने कैंपेन सॉन्ग के साथ मनोज तिवारी की भोजपुरी फिल्मों के वीडियो लगाए और दिखाया कि मनोज तिवारी भी इस गाने पर डांस कर रहे हैं। इससे नाराज होकर बीजेपी ने 500 करोड़ के मानहानि का नोटिस भिजवाया और चुनाव आयोग में शिकायत की।

बीजेपी एक तरफ 500 करोड़ के हर्जाने की मांग कर रही थी और चुनाव आयोग में शिकायत कर रही थी वहीं दूसरी तरफ खुद बीजेपी ने अनिल कपूर की फिल्म नायक के एक सीन में मुख्यमंत्री के तौर पर अरविंद केजरीवाल को दिखाया और उनको आप का खलनायक बताया।

ये भी पढ़ें :-  'असम को अलग कर देंगे' वाले विडियो पर राजनीति तेज,बीजेपी ने शाहीन बाग को कहा 'तौहीन बाग'

यानी वीडियो की शुरुआत तो आम आदमी पार्टी ने की लेकिन वीडियो के अंदर किसी नेता का नाम लेने या व्यक्तिगत हमले करने की शुरुआत बीजेपी की तरफ से की गई।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.