fbpx

बिहार में NRC लागू होने का कोई सवाल ही नहीं: नीतीश कुमार

संशोधित नागरिकता कानून (CAA) और NRC को लेकर सोमवार को विपक्ष ने पटना में विधानसभा के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान विधानसभा में सीएम नीतीश कुमार ने दावा किया कि बिहार में NRC लागू होने का कोई सवाल ही नहीं है। नीतीश ने कहा कि NRC का मुद्दा सिर्फ असम के संदर्भ में है और इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी साफ़ कर चुके हैं।

संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ जेडीयू(JDU) में ही दो फाड़ की स्थिति तब बन गई जब पार्टी लाइन से इतर उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने बयान दिया। प्रशांत किशोर ने रविवार को भी CAA और NRC के मुद्दे पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की तारीफ की थी। इसके बाद कई तरह की सियासी अटकलें शुरू हो गईं हैं।

नीतीश कुमार पहले भी दावा करते रहे हैं कि बिहार में NRC लागू नहीं होगा। सोमवार को उन्होंने विधानसभा में इस दावे को दोहराया। नीतीश कुमार ने कहा, ‘बिहार में NRC का कोई सवाल ही नहीं है। यह मुद्दा सिर्फ असम से जुड़ा है। पीएम नरेंद्र मोदी भी इस बारे में स्पष्ट कर चुके हैं।’

ये भी पढ़ें :-  सुभाष चंद्र बोस के पोते ने PM मोदी को दी चेतावनी- देश तेजी से बढ़ रहा है दूसरे विभाजन की तरफ

प्रशांत किशोर  काफी समय से CAA के विरोध में बयानबाज़ी करते रहे हैं मगर नीतीश कुमार NRC और CAA के मुद्दे पर खामोश रहे। बिहार की सियासत में अब कहा जाने लगा है कि पीके(प्रशांत किशोर) नीतीश की मजबूरी हैं क्योंकि उन्हीं के जरिए नीतीश कई रणनीति पर काम कर रहे हैं। हालांकि कहा ये भी जा रहा है कि नीतीश कुमार सोची-समझी रणनीति के तहत इस मुद्दे पर अधिकतर खामोश रहे हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.