fbpx

बढ़ती बेरोज़गारी से युवाओं में गुस्सा फूटने का डर: पी चिदंबरम

पूर्व वित्त मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने अर्थव्यवस्था को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है उन्होंने कहा कि यदि बेरोजगारी बढ़ती है और आय घटती है तो युवाओं और विद्यार्थियों में गुस्से की भावना उत्पन्न होने का खतरा है।

कांग्रेस नेता ने ट्वीट करके कहा कि देश CAA और NPR के विरोध में लगा हुआ है। दोनों एक स्पष्ट और वर्तमान खतरे को प्रस्तुत कर रहा है। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्ता में गिरावट देश के लिए एक बड़ा खतरा है।

चिदंबरम ने कहा कि यदि बेरोजगारी इसी तरह बढ़ती है और लोगों की आय में कमी आती है तो युवाओं और विद्यार्थियों में गुस्से की भावना उत्पन्न होने का खतरा है। साथ ही उन्होंने बढ़ती उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (CPI) मुद्रास्फीति को लेकर भी सरकार पर हमला बोला।

ये भी पढ़ें :-  प्रशांत किशोर का अमित शाह पर पलटवार- परवाह नहीं तो लागू करें CAA-NRC की क्रोनोलॉजी

सोमवार को जारी हुए सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, खाने की चीजों की ज्यादा कीमतों की वजह से दिसंबर 2019 में खुदरा मुद्रास्फीति 7.35 प्रतिशत तक बढ़ गई जो रिजर्व बैंक द्वारा तय की गई सामान्य सीमा से अधिक है। उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (CPI) पर आधारित खुदरा मुद्रास्फीति दिसंबर 2018 में 2.11 प्रतिशत थी। वहीं, नवंबर 2019 में 5.54 प्रतिशत थी।

चिदंबरम ने कहा कि अक्षम प्रबंधन का चक्र पूरा हो गया है। श्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने जब जुलाई 2014 में सरकार संभाली थी, तो CPI मुद्रास्फीति 7.39 प्रतिशत पर थी। दिसंबर 2019 में यह 7.35 फीसदी थी।

उन्होंने कहा कि खाद्य मुद्रास्फीति 14.12 प्रतिशत है। सब्जियों की कीमत 60 प्रतिशत तक बढ़ चुकी है। प्याज की कीमतें 100 रुपये किलो तक पहुंच चुके हैं। यही अच्छे दिन हैं जिसका BJP ने वादा किया था।

ये भी पढ़ें :-  क्या आप भी करते हैं मेट्रो से सफर तो जानें मेट्रो स्मार्ट कार्ड से जुड़ी कुछ खास बातें

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.