fbpx

पाकिस्तान ने खुद को FATF की ग्रे लिस्ट से निकालने के लिए अमेरिका से की गुजारिश

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर टेरर फंडिंग और मनी लॉन्ड्रिंग की निगरानी और उस पर अंकुश लगाने वाली संस्था फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स (FATF) की पेइचिंग में होने वाली बैठक से पहले पाकिस्तान बेचैन है। अब उसने अमेरिका से गुहार लगाई है कि वह उसे FATF की ग्रे लिस्ट से बाहर निकालने में मदद करे। इस्लामाबाद इसलिए इतना बेचैन है क्योंकि अगर अप्रैल तक वह FATF की ग्रे लिस्ट से नहीं निकल पाया तो वह ब्लैकलिस्ट हो सकता है। पेइचिंग में होने वाली FATF की बैठक में टेरर फंडिंग और मनी लॉन्ड्रिंग पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए पाकिस्तान की तरफ से उठाए गए कदमों की समीक्षा होगी।

इसी हफ्ते ट्रंप से मिलेंगे इमरान

इसी हफ्ते पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप से मिलने वाले हैं। खान स्विटजरलैंड के दावोस में वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम की 21 जनवरी से 23 जनवरी तक होने वाले सम्मेलन में शामिल होंगे। WEF से इतर वह ट्रंप से मुलाकात करेंगे। खास बात यह है कि पेइचिंग में FATF वर्किंग ग्रुप की बैठक भी 21 जनवरी से 23 जनवरी तक चलेगी।

पेइचिंग में मंगलवार से FATF वर्किंग ग्रुप की बैठक

FATF वर्किंग ग्रुप के साथ 3 दिनों तक आमने-सामने की बातचीत के लिए पाकिस्तान का एक प्रतिनिधिमंडल रविवार को ही पेइचिंग पहुंच चुका है। FATF वर्किंग ग्रुप के साथ पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल की फेस-टु-फेस बातचीत मंगलवार से शुरू होगी। इस दौरान इस बात की समीक्षा की जाएगी कि पाकिस्तान ने पैरिस में FATF की बैठक के दौरान तय किए गए मानकों का पालन किया है या नहीं।

ये भी पढ़ें :-  घोड़ी चढ़े आयुष्मान खुराना, सोशल मीडिया पर फोटो हो रही वायरल

FATF बैठक के लिए पेइचिंग पहुंचा पाकिस्तान का दल

पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व मिनिस्टर फॉर इकनॉमिक अफेयर्स डिविजन हम्माद अजहर कर रहे हैं, जिसमें नैशनल काउंटर टेररिजम अथॉरिटी, विदेश मंत्रालय, स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के प्रतिनिधि भी शामिल हैं।

अप्रैल तक ग्रे लिस्ट से बाहर नहीं निकला पाक तो होगा ब्लैकलिस्ट

पिछले साल अक्टूबर में FATF ने लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद और अन्य आतंकी संगठनों के लिए टेरर फंडिंग पर लगाम लगाने में नाकाम होने की वजह से पाकिस्तान को ‘ग्रे ‘लिस्ट में रखने का फैसला किया। अगर इस साल अप्रैल तक पाकिस्तान इस लिस्ट से बाहर नहीं निकल पाया तो उसे ब्लैकलिस्ट किया जा सकता है और उस पर ईरान की तरह ही कड़े आर्थिक प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं।

8 जनवरी को पाक ने भेजी थी रिव्यू रिपोर्ट

पाकिस्तान ने 8 जनवरी को FATF को 650 पेज की रिव्यू रिपोर्ट सौंपी थी। यह रिपोर्ट मनी लॉन्ड्रिंग को लेकर पाकिस्तान की नई नीतियों के संबंध में FATF द्वारा पूछे गए 150 सवालों के जवाब में पेश की गई। रिपोर्ट में अक्टूबर 2019 से जनवरी 2020 के बीच FATF की सिफारिशों को लागू करने की दिशा में पाकिस्तान द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में बताया गया है।

ये भी पढ़ें :-  बिग बॉस - शिल्पा शिंदे का बड़ा खुलासा,कहा सिद्धार्थ शुक्ला ने दिया था एसिड फेकने की धमकी

पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने जताई थी उम्मीद- US करेगा मदद

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शुक्रवार को वॉशिंगटन में एक मीडिया ब्रीफिंग के दौरान उम्मीद जताई थी कि पेइचिंग में अमेरिका इस्लामाबाद को FATF की ग्रे लिस्ट से बाहर निकालने में मदद करेगा। कुरैशी 3 दिन की अमेरिका यात्रा पर गए थे। उस दौरान उन्होंने अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पिओ, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रॉबर्ट ओ ब्रायन समेत तमाम अधिकारियों और सांसदों से मुलाकात की।

समय आ गया है कि ट्रंप वादा निभाएं: कुरैशी

कुरैशी ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने पिछले साल पाकिस्तान के पीएम इमरान खान के साथ अपनी बैठक में कहा था वह इस्लामाबाद को FATF ग्रे लिस्ट से बाहर देखना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि इसीलिए उन्हें उम्मीद है कि अमेरिकी अधिकारी अब इस दिशा में काम करेंगे। कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान ने FATF के मानकों को पूरा करने के लिए कई ठोस कदम उठाए हैं और अब समय आ गया है कि राष्ट्रपति ट्रंप अपने वादे को पूरा करें।

63 total views, 8 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.