fbpx

‘Owaisi के बाप-दादाओं ने अपनी लैला के लिए Taj Mahal बनवाया’

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और एनआरसी (NRC) के विरोध के बीच हो रही बयानबाजी ज्यादा तल्ख होती जा रही है। AIMIM के प्रमुख और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी के भाई और विधायक अकबरुद्दीन ओवैसी द्वारा हाल ही में दिए गए विवादित बयान का शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने जवाब दिया है। रिजवी ने अकबरुद्दीन ओवैसी को जवाब देते हुए कहा कि ओवैसी बंधुओं के बाप-दादाओं ने अपनी लैला के लिए ताजमहल बनवाया था।

वसीम रिजवी ने अकबरुद्दीन ओवैसी को जवाब देते हुए कहा कि ओवैसी के बाप दादाओं ने अपनी लैला के लिए ताजमहल बनवाया था। उन्होंने हिंदुस्तानियों के लिए कुछ नहीं बनवाया था। उन्‍होंने आगे कहा कि, ”ये मुगलों की औलाद कहते हैं कि इनके बाप मुगलों ने 800 साल भारत में राज किया। मुगल बादशाह नहीं थे, बल्कि लुटेरे थे। उन्होंने हिंदुस्तानियों को बंधक बनाकर रखा, उनके साथ जुल्म किया। ओवैसी के बाप-दादाओं ने मंदिरों को तोड़कर जामा मस्जिद बनाई है।’

ये भी पढ़ें :-  फ़रवरी के तीसरे सप्ताह में पड़ रहे हैं यह बड़े पर्व, जानें कब है महाशिवरात्रि

उन्‍होंने कहा कि अयोध्या, काशी, मथुरा और हरिद्वार में मस्जिदें हिंदुओं की उदारवादिता है। उन्होंने ओवैसी से सवाल करते हुए कहा, क्या कभी मक्का जैसी जगहों पर मंदिर बनवाए जा सकते हैं। ये मुस्लिम कट्टरपंथियों का असली चेहरा है।”

अकबरुद्दीन ओवैसी ने हैदराबाद में एक जनसभा को संबोधित करते हुए विवादित बयान दिया था और केंद्र सरकार पर तीखा हमला बोलते हुए कहा था कि ”हमको डरने या घबराने, परेशान होने की जरुरत नहीं है। हमें इनकी बातों में आने की जरुरत भी नहीं है। आज कुछ लोग जो पूछ रहे हैं कि मुसलमान के पास क्या है। मैं कहना चाहता हूं तू मेरा कागज देखना चाहता है। अरे 800 बरस तक मैंने इस मुल्क पर हुक्मरानी की है। ये मुल्क मेरा था, मेरा है और मेरा ही रहेगा। आबा-ओ-अजदाद ने इस मुल्क को चारमीनार दिया, मक्का मस्जिद दिया, जामा मस्जिद दिया, कुतुबमीनार दिया। अरे हिंदुस्तान का वजीर-ए-आजम जिस लाल किले पर झंडा फहराता है वो भी मेरे आबा-ओ-अजदाद ने दिया। अगर कोई कागज मांग रहा है तो कागज मांगने वाले देख ले वो चारमीनार खड़ा है वो सबसे बड़ा सबूत है जो मेरे बाप दादा ने बनाया तेरे बाप ने नहीं बनाया।”

40 total views, 2 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.