fbpx

मोदी सरकार को एक और झटका, खुदरा महंगाई के बाद थोक महंगाई में भी बढ़त दर्ज

बढ़ती महंगाई और आर्थिक सुस्ती का सामना करती मोदी सरकार को एक और बड़ा झटका लगा है। ताजा आंकड़ों के अनुसार, जनवरी में थोक महंगाई दर दिसंबर के 2.59 प्रतिशत से बढ़कर 3.1 प्रतिशत हो गई है। 2019 की समान अवधि में थोक महंगाई 2.76 प्रतिशत पर रही थी। हालांकि, जनवरी में थोक खाद्य महंगाई दर कम रही लेकिन मैन्युफैक्चर्ड प्रोडक्ट्स की महंगाई आंकड़ों में बढ़त दर्ज की गयी है। आपको बता दें कि पिछले वर्ष के अंत के तीन महीने-दिसंबर, नवंबर और अक्‍टूबर में थोक महंगाई में बढ़त दर्ज की गयी है।

6 वर्ष के उच्चतम स्तर पर खुदरा महंगाई

बीते बुधवार को खुदरा महंगाई के आंकड़े पेश किये गए थे। इन आकड़ों के मुताबिक, खुदरा महंगाई 6 साल के सबसे ऊपर स्तर पर है। सब्जियों, अंडों, गोश्त, मछली जैसे खाद्य पदार्थो और ईंधन के भाव में बढ़त रहने की वजह से खुदरा महंगाई दर जनवरी में बढ़त के साथ 7.59 प्रतिशत हो गई, जो लगभग पिछले छह वर्ष का ऊंचा स्तर है।  खुदरा महंगाई दर इससे पहले दिसंबर 2019 में 7.35 प्रतिशत दर्ज की गई थी, जबकि पिछले साल जनवरी 2019 में खुदरा महंगाई दर 1.97 प्रतिशत दर्ज की गई थी।

ये भी पढ़ें :-  सिर्फ नए और स्टाइलिश ही नहीं हर लड़की के पास जरूर होने चाहिए ये 8 तरह के बैग

औद्योगिक उत्पादन में कमी

बीते बुधवार को औद्योगिक उत्पादन के आंकड़े पेश किये गए थे। देश के मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर में सुस्‍ती रहने की वजह से दिसंबर 2019 तहत औद्योगिक उत्पादन में 0.3 प्रतिशत की कमी दर्ज की गयी थी। वहीं नवंबर 2019 में औद्योगिक उत्पादन में 1.82 प्रतिशत की बढ़त दर्ज की गई थी। दिसंबर 2018 में देश के औद्योगिक उत्पादन में 2.5 प्रतिशत की बढ़त दर्ज की गई थी। औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (IIP) में दिसंबर 2018 के दौरान 2.5 प्रतिशत की तेज़ी  दर्ज की गई थी।

897 total views, 1 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.