इस दिन शुरू होगी चैत्र नवरात्रि, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

चैत्र मास शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से हर साल नवरात्रि की शुरुआत होती है। इस साल चैत्र नवरात्रि 25 मार्च 2020 से शुरू हो रही है और 02 अप्रैल 2020 को इसकी समाप्ति होगी। इसी दिन से विक्रम नवसंत्सवर 2077 की शुरुआत होगी यानी कि हिंदी नव वर्ष की भी शुरुआत होगी। नवरात्रि के नौ दिन मां दुर्गा के अलग-अलग नौ रूपों की विधि विधान के साथ पूजा-अर्चना की जाती है। इस बार नवरात्रि में कई शुभ योग भी पड़ रहे हैं। इन योगों में मां की पूजा फलदायी मानी गई है। इन योगों में मां शक्ति की अराधना करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

इस बार चैत्र नवरात्रि में 4 सर्वार्थ सिद्धि योग, 5 रवि योग और 1 गुरु पुष्य योग रहेगा। इन शुभ योग में मां की पूजा करने वाले भक्तों की सभी इच्छाएं पूरी होंगी। नवरात्रि के इन नौ दिनों में नए कार्य प्रारंभ किए जा सकते हैं। ये 9 दिन बहुत ही शुभ होते हैं और इनमें कोई भी अच्छा काम किया जा सकता है। चैत्र नवरात्रि से ही मौसम में बदलाव होना भी शुरू हो जाता है। सर्दियां चली जाती हैं और गर्मी के मौसम का आगमन होता है। इस मौसम परिवर्तन के वजह से कई तरह के रोगों का सामना भी करना पड़ता है। ऐसे में शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए इन दिनों व्रत रखे जाते हैं। हालांकि अपने स्वास्थ्य के बारे में ध्यान रखते हुए ही मां के लिए व्रत रखें।

ये भी पढ़ें :-  ऐप बैन कर भारत ने दिखाया, वो चीन के रवैये के आगे झुकेगा नहीं- निकी हेली

चैत्र नवरात्रि घटस्थापना मुहूर्त

घटस्थापना– 25 मार्च, 2020 (बुधवार)
घटस्थापना मुहूर्त– सुबह 6 बजे से सुबह 06:57 मिनट तक
अवधि- 56 मिनट
प्रतिपदा तिथि प्रारंभ- 24 मार्च 2020 को दोपहर 02:57 बजे
प्रतिपदा तिथि समाप्त– 25 मार्च 2020 को शाम 05:26 बजे
घटस्थापना मुहूर्त प्रतिपदा तिथि पर और घटस्थापना मुहूर्त, द्वि-स्वभाव मीन लग्न के दौरान।

नवरात्रि के नौ दिन
25 मार्च: पहला दिन (प्रतिपदा)- मां शैलपुत्री की उपासना
26 मार्च: दूसरा दिन (द्वितीया)- मां ब्रह्राचारिणी की उपासना
27 मार्च: तीसरा दिन (तृतीया)- मां चंद्रघंटा की उपासना
28 मार्च: चौथा दिन (चतुर्थी तिथि)- मां कूष्मांडा की उपासना
29 मार्च: पांचवा दिन (पंचमी तिथि)- मां स्कंदमाता की उपासना
30 मार्च: छठा दिन (षष्ठी तिथि)- मां कात्यायनी की उपासना
31 मार्च: सातवां दिन(सप्तमी तिथि)- मां कालरात्रि की उपासना
01 अप्रैल: आठवां दिन (अष्टमी तिथि)- मां महागौरी की उपासना
02 अप्रैल: नौवा दिन (नवमी तिथि)- मां सिद्धिदात्री की उपासना

388 total views, 1 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.