योगी नहीं मानते पीएम मोदी की बात, जनता कैसे माने?- कांग्रेस

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को मद्देनज़र रखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोशल डिस्टेंसिंग की अपील की है। हालांकि, बुधवार को नवरात्रि के पहले दिन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अयोध्या पहुंचे। अयोध्या में भगवान रामलला को टेंट से हटाकर उनके अस्थायी मंदिर में रखा गया है। यह राम जन्मभूमि परिसर में मानस भवन के नजदीक बनाया गया है। राम मंदिर निर्माण पूरा होने तक भगवान रामलला यहीं पर रहेंगे। यूपी के मुख्यमंत्री योगी के इस कदम पर कांग्रेस समेत कई अन्य पार्टियों ने सवाल उठाया है। उत्तर प्रदेश में अब तक कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 35 पहुंच चुकी है।

यूपी कांग्रेस चीफ अजय कुमार लल्लू ने कहा, ‘नवरात्रि का पहला दिन है। मां के दरबार में दर्शन के लिए जाने की मेरी भी इच्छा है। हालांकि, मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की बात मानी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी बात नहीं मानते। भीड़ के साथ दर्शन कर रहे हैं तो ऐसे में कैसे यूपी की जनता पीएम की बात माने?’

ये भी पढ़ें :-  गौतम ने एकबार फिर दान किये 50 लाख रुपये

अजय कुमार लल्लू, “संवैधानिक पद पर बैठे प्रत्येक व्यक्ति का यह कर्तव्य बनता है कि वह देश में आपदा के समय जो भी निर्णय लिए गए हों, उनका सहर्ष पालन करें लेकिन PM एकतरफ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की बात कर रहे हैं, दूसरी तरफ उन्हीं के मुख्यमंत्री उनके निर्देशों की धज्जियां उड़ा रहे हैं…तो ऐसे में सवाल उठता है कि उत्तर प्रदेश कितना सुरक्षित हैं।”

‘CM योगी ने नहीं किया कुछ गलत
योगी कैबिनेट में मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि, ‘रामलला को अस्थायी मंदिर में शिफ्ट किया जाना भी जरूरी था। यह कार्यक्रम पहले से तय था। बतौर सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने कर्तव्य का निर्वहन किया है। मैं नहीं मानता कि उन्होंने कुछ भी गलत किया। वह तड़के वहां पहुंचे। उन्होंने सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन किया। इसके साथ ही सीएम योगी उत्तर प्रदेश की जनता को कोरोना वायरस से सुरक्षित रखने के लिए हर एक अहम कदम उठा रहे हैं।’

498 total views, 3 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.