पीएम मोदी: महाभारत का युद्ध 18 दिन में जीता गया था, कोरोना के खिलाफ युद्ध में 21 दिन लगने वाले हैं

कोरोना वायरस से जंग का ऐलान करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की। कोरोना की दवाइयों को लेकर फैली गलतफहमी पर PM मोदी ने बताया, “कोरोना के संक्रमण का इलाज अपने स्तर पर नहीं करें। ध्यान रखें कि अभी तक कोरोना के खिलाफ कोई भी दवा, कोई भी वैक्सीन (Vaccine) पूरी दुनिया में नहीं बनी है। हमारे और दूसरे देशों में वैज्ञानिक इसपर काम कर रहे हैं लेकिन मैं आपसे कहूंगा कि आपको कोई भी दवा सुझाए तो भी डॉक्टर से बात करके ही कोई दवा लें। “

महामारी कोरोना वायरस पर बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि महाराभारत की भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि महाभारत का युद्ध 18 दिन में जीता गया था, कोरोना से 21 दिन में जीत की कोशिश है। पीएम मोदी ने कहा कि महाभारत का युद्ध 18 दिन में जीता गया था, आज कोरोना के खिलाफ जो युद्ध पूरा देश लड़ रहा है, उसमें 21 दिन लगने वाले हैं। हमारा प्रयास है इसे 21 दिन में जीत लिया जाए।

ये भी पढ़ें :-  गौतम ने एकबार फिर दान किये 50 लाख रुपये

देश को संबोधित करने के एक दिन बाद बुधवार को काशी के लोगों से बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि महाभारत के युद्ध में भगवान श्रीकृष्ण महारथी, सारथी थे, आज 130 करोड़ महारथियों के बलबूते पर हमें कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई को जीतना है। इसमें काशीवासियों की बहुत बड़ी भूमिका है।

काशी के महत्व को बताते हुए पीएम ने कहा कि काशी का तो अर्थ ही है- शिव. शिव यानी कल्याण. शिव की नगरी में, महाकाल-महादेव की नगरी में संकट से जुझने का, सबको मार्ग दिखाने का सामर्थय है।

देश में मजदूरों के कई जगह फंस जाने और गरीबों को लेकर लिए किए गए एक सवाल के जवाब में पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना का जवाब करुणा से दिया जाना चाहिए। हम जरूरतमंदों के प्रति करुणा दिखाने का एक कदम उठा सकते हैं। उन्होंने इस समय में डॉक्टरों और नर्सों को ‘ईश्वर का रूप’ बताया। उन्होंने कहा, “आज से नवरात्र शुरू हुए हैं। देश में जिनके पास शक्ति हो, अगले 21 दिन तक प्रतिदिन 9 गरीब परिवारों की मदद करने का प्रण लें।” उन्होंने कहा कि अगर हम इतना कर लें तो इससे बड़ी मां की सेवा क्या हो सकती है! उन्होंने लोगों से पशुओं का भी ध्यान रखने को कहा।

ये भी पढ़ें :-  लॉकडाउन: आर्थिक चुनौतियों से निपटने के लिए एक और पैकेज पर विचार कर रही केन्द्र सरकार

वहीँ डॉक्टरों (Doctors) और अन्य मेडिकल स्टाफ के साथ होने वाले दुर्व्यवहार को लेकर पूछे गए सवाल पर प्रधानमंत्री ने कहा कि मेरी सभी नागरिकों से अपील है कि अगर मेडिकल कर्मियों के साथ बुरे बर्ताव की जानकारी मिलती है तो आप ऐसा करने वालों को चेतावनी दीजिए और समझाइए कि ऐसा नहीं होना चाहिए।

पीएम ने जानकारी देते हुए बताया कि यह भी बताया कि अगर आपके पास WhatsApp की सुविधा है तो आप इस नंबर 9013151515 पर ‘नमस्ते’ खिलकर भेजेंगे तो आपको उचित जवाब मिलना शुरू हो जाएगा। उन्होंने बताया कि कोरोना से जुड़ी सही और सटीक जानकारी के लिए सरकार ने WhatsApp के साथ मिलकर एक हेल्पडेस्क बनाई गयी है।

100 total views, 3 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.