कोरोना का असर देश के रक्षा सौदों पर भी, तीनों सेनाओं को खरीद डील रोकने को कहा गया

पूरी दुनिया में अपना प्रकोप फैलाने वाले कोरोना संकट का असर अब भारत के रक्षा सौदों पर भी पड़ गया है। कोरोना देशबंदी से पैदा हुए संकट के हालात ने सशस्त्र बलों के लिए बजट में भी कटौती करने के लिए मजबूर कर दिया है। रक्षा मंत्रालय की तरफ से तीनों सेनाओं (थल सेना, वायुसेना और नौसेना) से कोरोना संकट जारी रहने तक अपने आधुनिकीकरण के लिए किए जा रहे रक्षा सौदों की प्रक्रिया को फिलहाल रोकने के लिए कहा है।

कोरोना का असर अब रक्षा सौदे पर
रक्षा मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि सैन्य मामलों के विभाग द्वारा एक पत्र लिखा गया है, जिसमें जब तक देश में कोविड-19 संकट की स्थिति बनी रहती है, तब तक तीनों सेनाओं को अपनी पूंजी अधिग्रहण प्रक्रियाओं (रक्षा सौदों) को रोकने के लिए कहा गया है। उन्होंने यह भी कहा कि सशस्त्र बलों को अपनी सभी अलग-अलग चरणों में मौजूद अधिग्रहण प्रक्रियाओं को रोक कर रखने के लिए कहा गया है। यानी इन सभी डील पर विराम लग गया है, कोरोना वायरस महामारी के बाद अलग-अलग डील को वहीं से आगे बढ़ाया जाएगा।

ये भी पढ़ें :-  18 करोड़ लोगों ने अभी तक नहीं कराया आधार-पैन को लिंक, देना होगा जुर्माना

तीनों सेना खरीद की प्रक्रिया में
ख़बर के अनुसार, तीनों सेनाएं अपने आधुनिकीकरण के लिए कई रक्षा सौदों की प्रक्रिया में हैं, जो अलग-अलग चरणों में हैं। जहां भारतीय वायु सेना फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान और रूस से एस-400 वायु रक्षा हथियार प्रणाली के लिए भुगतान करने की प्रक्रिया में है। वहीं भारतीय थल सेना भी अमेरिका और रूस सहित कई देशों से टैंक, आर्टिलरी गन और असॉल्ट राइफल भी खरीद रही है। इसके अलावा, नौसेना ने भी हाल ही में अमेरिका से 24 मल्टीरोल चॉपर्स (हेलिकॉप्टर) के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किया है।

374 total views, 3 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published.