‘इतनी शक्त‍ि हमें दे ना दाता’ गीत के मशहूर गीतकार अभ‍िलाष ने 74 की उम्र में ली आखिरी सांस

भारत मे हर स्कूल की शान वाला गीत जो आज भी भारत के प्रत्येक व्यक्ति को याद है जो है गीत इतनी शक्त‍ि हमें दे ना दाता इस गीत को हर विद्यालय में प्रार्थना के नाम पर खूब बोला जाता है आज इसी गीत के लेखक गीतकार अभ‍िलाष का रव‍िवार 27 सितंबर को निधन हो गया।

74 वर्ष की उम्र में उन्होंने आखिरी सांस ली बता दें कि मार्च में उन्होंने पेट के एक ट्यूमर का ऑपरेशन कराया था, उसके बाद से ही उनकी तबीयत ठीक नहीं चल रही थी रव‍िवार आधी रात गोरेगांव पूर्व के शिव धाम में उनका अंतिम संस्कार किया गया। उनकी अभ‍िलाष की एक बेटी है जोकि अपने पति के साथ बेंगलुरू में रहती हैं।

अभ‍िलाष जी को पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह द्वारा कलाश्री अवार्ड से सम्मानित किया गया था। गीतकार अभिलाष का विश्व प्रसिद्ध गीत ‘इतनी शक्ति हमें देना दाता’ आज भी हिंदुस्तान के 600 विद्यालयों में प्रार्थना गीत के रूप में गाया जाता है। इस गीत का विश्व की आठ भाषाओं में अनुवाद किया जा चुका है। और इसे अलग अलग देश मे भी प्रार्थना गीत के रूप में गाया जाता है। इस गीत के महिला और पुरुष दो संस्करण हैं एक में सुषमा श्रेष्ठ, पुष्पा पागधरे आदि की आवाज है, दूसरे में घनश्याम वासवानी, अशोक खोसला, शेखर सावकार और मुरलीधर की आवाज है।

ये भी पढ़ें :-  धारावाहिक कुमकुम भाग्य और यह रिश्ता क्या कहलाता में काम कर चुकी, इस मशहूर अभिनेत्री का हुआ अचानक से निधन

संगीतकार कुलदीप सिंह ने इस गीत को एन चंद्रा की फिल्म अंकुश (1985) के लिए बनाया था. इससे पहले फिल्म ‘साथ साथ’ में कुलदीप सिंह का संगीत सुपरहिट हो चुका था. वे फिल्म उस समय सिनेमा में एक स्ट्रगलर थे एक दिन वे कुलदीप सिंह के पास गए और बोले- पापा जी, मैंने स्ट्रगल कर रहे कलाकारों की एक टीम बनाई है और उन्हें लेकर एक फिल्म कर रहा हूं. कुलदीप सिंह ने बिना फीस मांगे फिल्म ‘अंकुश’ का संगीत दिया। गीतकार अभिलाष ने गीत लिखे, फिल्म हिट हुई साथ ही फ़िल्म का इसके संगीत भी हिट हुए।

अभ‍िलाष के ल‍िखे गीत
अभ‍िलाष ने कई फिल्मों में गीत लिखें हैं जैसे कि ‘इतनी शक्ति हमें देना दाता’, सांझ भई घर आजा ,आज की रात न जा, वो जो खत मुहब्बत में ,तुम्हारी याद के सागर में, संसार है इक नदिया, तेरे बिन सूना मेरे मन का मंदिर और भी कई जीत उनके बहुत लोकप्रिय हुए। अभिलाष पिछले 40 सालों से भारतीय सिनेमा से जुड़े हुए थे। गीत के अलावा उन्होंने कई फिल्मों में बतौर पटकथा-संवाद लेखक भी योगदान दिया है। कई टीवी धारावाहिकों की स्क्रिप्ट भी लिखी है।

168 total views, 6 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published.