fbpx

BJP Manifesto 2019: जानिये कितने झूठे निकले बीजेपी के पुराने वादे

चुनाव के समय यूं तो हर पार्टी कुछ न कुछ बड़े बोल बोलती है लेकिन इसमें से देखने वाली बात ये होती है कि वो पार्टी कितना अपने बोल पर खड़े उतरी है। ऐसे ही कुछ 2014 में हुए चुनाव के दौरान भी हुआ था। फिलहाल, भाजपा अपने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए घोषणा पत्र जारी कर रही है। बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, ‘जब भी भारत का इतिहास लिखा जाएगा, 2014 से 2019 के पांच साल स्वर्ण अक्षरों में लिखे जाएंगे। हमारी सरकार को बुनियादी जरूरतों को जनता तक पहुंचाने में सफलता मिली है। देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने का काम मोदी सरकार ने किया है।’

भारतीय जनता पार्टी ने कई ऐसे तमाम वादे किए थे जिसे सुनकर लोगो की उम्मीदें बढ़ गई थी और लोग खुश हो गए थे। तो आज हम जानते हैं क्या वाकई 2014 से 2019 तक के पांच साल स्वर्ण अक्षरों से लिखे जाएंगे। चलिए जानते हैं उन ख़ास वादों के बारे में जो लोगो से किए गए थे:-

भाजपा के वादे:-

क्षेत्र के भीतर और देश के बाकी हिस्सों के साथ संपर्क बढ़ाना:-

मोदी सरकार ने इस वादा को पूरा करने के लिए, पूर्वोत्तर क्षेत्र के विकास के लिए मंत्रालय ने नॉर्थ ईस्ट स्पेशल इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट स्कीम, नॉर्थ ईस्ट रोड सेक्टर डेवलपमेंट स्कीम, नॉर्थ ईस्ट वेंचर फंड और नॉर्थ ईस्ट रीजन में साइंस एंड टेक्नोलॉजी इंटरवेंशन जैसी योजनाएं शामिल की। उन्होंने इसके लिए काम तो बहुत किए लेकिन ये सरकार इस काम में पूरी तरह सफल नहीं हुई।

पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप को पीपुल-पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल में विकसित करने का वादा:-

मोदी सरकार ने अपने इस वादे को बिल्कुल पूरा नहीं किया। ये सरकार अपने इस वादे में पूरी तरह असफल रही। किसानों, दलितों, छात्रों और कर्मचारियों से जुड़े कई समूहों ने मोदी सरकार की इन नीतियों के खिलाफ आरोप लगाया है और कहा कि लोगों को राजनीतिक शक्ति में भागीदार नहीं बनाया गया है।

काला धन लाने का वादा:-

मोदी सरकार ने दावा किया था कि अगर वो काला धन विदेशों से ले आते हैं तो सभी गरीबों के खाते में 15-15 लाख रुपये जमा होंगे और अभी तक कुछ ऐसा नहीं हुआ है जिससे गरीबों के खाते में 15 लाख रुपये आए हो। अमित शाह ने तो इस वादे को ‘जुमला’ बताया था।

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने का वादा:-

मोदी सरकार का वादा था कि जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाई जाएगी लेकिन यह धारा अभी भी संविधान में है। अभी तक इसे हटाने को लेकर किसी तरह का काम नहीं हुआ।

ये तो कुछ ही वादे है मोदी सरकार ने कई वादे किए थे जो आजतक केवल वादे ही बनकर रहे गए। उनके वादों में शामिल थे राम मन्दिर, अच्छे दिन आएंगे, लेकिन अभी तक लोग इसी इंतज़ार में है कि अच्छे दिन कब आएंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.