fbpx

आतंक के खिलाफ बोलते हुए मोदी ने नहीं की इमरान ख़ान की परवाह, बनाई दूरी

शंघाई कॉरपोरेशन ऑर्गनाइजेशन समिट की बैठक में आतंकवाद समेत कई अहम मुद्दों पर चर्चा होने की संभावना है। यह दूसरा अवसर है जब भारत विदेश मंत्रियों की परिषद (सीएफएम) की बैठक में एससीओ के पूर्ण सदस्य के तौर पर शामिल हो रहा है। जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर आतंकवाद के मुद्दे को दुनिया के सामने उठाया है।

बिश्केक में जारी शंघाई कॉरपोरेशन ऑर्गनाइजेशन समिट में शुक्रवार को PM मोदी ने कहा कि सभी देशों को आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए साथ में आना होगा। आपको बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी जब SCO के मंच पर आतंकवाद के खिलाफ बोल रहे थे तब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भी वहां पर मौजूद थे।

बताते चलें कि भारत और पाकिस्तान की तकरार शंघाई कॉपरेशन ऑर्गनाइजेशन समिट  में भी दिखी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने पाकिस्तानी समक्ष इमरान खान से दूर नज़र आए। किर्गिस्तान के बिश्केक में हुए कार्यक्रम में फोटो शूट के दौरान भी पीएम मोदी ने इमरान से दूरी बनाए रखी।

पीएम मोदी

पीएम मोदी ने अहम् मुद्दों पर की चर्चा :-

पीएम मोदी ने इस दौरान सभी SCO सदस्यों से अपील की है कि हमें आतंकवाद के मुद्दे पर एकजुट होना होगा और आतंकवाद के मुद्दे पर ही अंतरराष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस को बुलाना होगा।

श्रीलंका दौरे पर प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं बीते हफ्ते श्रीलंका की चर्च में गया था, जहां पर चर्च में आतंकियों ने हमला किया था। SCO सदस्यों को आतंकवाद का सफाया करने के लिए एक होना चाहिए।

मोदी ने कहा कि आतंक से निपटने के लिए हमें अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन करना चाहिए। आतंकवाद रोज मासूमों बच्चों की जान लेता है। आतंक का सफाया जरूरी है।

पीएम मोदी ने कहा कि आधुनिक समय में कनेक्टविटी बेहद जरूरी है। लोगों का आपस में संपर्क होना भी जरूरी है, जल्द ही भारत की वेबसाइट पर रूस की टूरिज्म की जानकारी भी होगी। साथ ही SCO देशों के बीच हेल्थ, टूरिज्म समेत अन्य सेक्टरों को बढ़ाने का जिक्र किया।

पीएम मोदी ने कहा कि बहुपक्षीय व्यापार प्रणाली की जरूरत है। जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए भारत प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि भारत जलवायु परिवर्तन को लेकर सकारात्मक कदम उठा रहा है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.