fbpx

पीएम मोदी-अमित शाह के खिलाफ दायर याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिज

लोकसभा चुनाव के बीच सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन की शिकायतों को लेकर सुनवाई बंद कर दी है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि चुनाव आयोग ने पहले ही शिकायतों पर कार्रवाई कर दी है। कोर्ट के मुताबिक, अगर याचिकाकर्ता को चुनाव आयोग के फैसलों पर आपत्ति है तो नई याचिका दाखिल की जा सकती है।

आपको बता दें कि मंगलवार को कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल किया। कांग्रेस सासंद सुष्मिता देव की ओर से दाखिल हलफनामे में 6 मई को पीएम मोदी द्वारा राजीव गांधी पर ‘ भ्रष्टाचारी नंबर 1′ टिप्पणी को दुर्भाग्यपूर्ण और चुनाव आचार संहिता के खिलाफ बताया गया है। ऐसा कहा जा रहा है कि पीएम मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री की छवि को धूमिल और अपमानजनक बताया।

न्याय के खिलाफ

बता दें कि हलफनामे में कहा गया कि कई मामलों में बिना कारण बताए पीएम मोदी को क्लीन चिट दी गई और अमित शाह के खिलाफ भी कार्रवाई नहीं की गई। जबकि इसी तरह के भाषण देने पर मायावती,  योगी आदित्यनाथ,  प्रज्ञा ठाकुर,  मेनका गांधी पर कार्रवाई की गई। 

वहीं कांग्रेस के अभिषेक मनु सिंघवी ने कोर्ट को बताया कि चुनाव आयोग ने इन शिकायतों का निपटारा किया है लेकिन मामला यहीं खत्म नहीं होता। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट को विस्तार से देखने की जरूरत है। ये मामला सिर्फ आचार संहिता के उल्लंघन का नहीं है बल्कि जनप्रतिनिधि अधिनियम के तहत है।

याचिकाएं दायर कर सकती है

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर कांग्रेस पार्टी चाहती है तो वह पीएम मोदी और अमित शाह को दिए गए प्रत्येक क्लीन चिट को चुनौती देते हुए अलग-अलग याचिकाएं दायर कर सकती है।

Subscribe Our YouTube Channel
Subscribe Our YouTube Channel

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.