ओवैसी ने राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प को लेकर दिया बड़ा बयान कहा अमेरिका हमें न बताए…..

अमेरिका और ईरान के बीच लगातार हो रहे मतभेद को लेकर राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प के एक बयान जारी किया है। जिसमें वो भारत को सलाह दे रहे है कि भारत को कहां से तेल लेना चाहिए और कहां से नहीं। वही इस पर ऑल इंडिया मज्लिस ए इतेहदुल मुसलिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प के इस बयान को आड़े हाथ लिया है।

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि अमरीका हमें न बताए कि हमें पेट्रोल कहा से लेना चाहिए और कहां से नही। ओवैसी ने आगे कहा कि अमरीका को भारत की संप्रभुता में दखल देने का कोई हक नही है और न ही उन्हें भारत के मामलों में हस्तभेप करना चाहिए।

आपको बता दें कि बीते साल 4 नवम्बर से ईरान पर अमरीका प्रतिबंध है और इसी से गुस्साए राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प ने भारत समेत अन्य देशों को ईरान से कच्चे तेल का आयात नही करने की चेतानवी दी थी। बता दें कि भारत ईरान का तीसरा बड़ा आयातक देश है। साल 2017 से 2018 तक भारत ईरान से 18.4 मीलियन टन का कच्चा तेल आयात कर चुका है।

बीते हफ्ते अमराकी राजदूत निकी हेले भारत में अपना दौरा पूरा करके लौटी थी और इस दौरे के दौरान निकी हेले ने पीएम मोदी को संदेश दिया जो राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प से आया था। इस संदेश में उन्होंने ईरान से कच्चे तेल के आयात और ईरान से अपने सम्बंधों के ऊपर दोबारा सोचने के लिए कहा है। इसी से गुस्साए ओवैसी ने अमरीका को आड़े हाथ लिया।

अमरीका और ईरान में दरार

अमरीका और ईरान में दरार साल 2015 में हुई थी। जब ईरान परमाणु पर किए गए समझोतों से पीछे हट गया था। आपको बताते चले कि यह समझोता इसलिए किया गया था ताकि ईरान को परमाणु हथियार बनाने से रोका जाए। यह समझोता ईरान, भारत समेत अन्य देशों के साथ किया गया था। लेकिन ईरान ने नियमों का उल्लंघन कर इस समझोते को खारिज कर दिया है। जिसके बाद अमरीका ने ईरान को आंतकवाद को अभिप्रेरित करने का आरोप लगाया है।

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Reply

Your email address will not be published.