fbpx

अमेरिका पर मंडराया न्यूक्लिकयर हमले का खतरा

अमेरिका में इस समय खतरे के बादल मंडराते हुए नज़र आ रहे हैं। दरअसल अमेरिका के लिए एक बुरी खबर आ रही हैं। जानकारी के मुताबित अमेरिका के पूर्वी तटीय इलाके की ओर बढ़ा रहा शक्तिशाली तूफान फ्लोरेंस थोड़ा कमजोर होकर श्रेणी दो का हो गया है। हालांकि ऐसा भी बताया जा रहा हैं कि यह तूफान अभी भी जानलेवा बना हुआ है। इसके साथ ही पश्चिमी अटलांटिक महासागर से उठा यह तूफान गुरुवार को उत्तरी और दक्षिणी कैरोलिना के तट से टकराएगा।

इस बारे में तूफानों पर नजर रखनेवाली अमेरिकी एजेंसी नेशनल हरिकेन सेंटर (एनएचसी) ने इसकी जानकारी दी है। वही इससे पहले यह आशंका जताई जा रही थी कि फ्लोरेंस श्रेणी चार का तूफान है जिससे भारी तबाही हो सकती है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार फ्लोरिडा राज्य के मियामी शहर में स्थित एनएचसी ने इस बारे में ये बताया कि फ्लोरेंस दक्षिण कैरोलिना के मर्टल बीच के पूर्वी-दक्षिणपूर्व से 520 किलोमीटर दूर है। मिली सूचना के अनुसार अभी भी हवाएं 175 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही है। सूत्रों की माने तो एनएचसी ने इस मामले में ये कहा, तूफान उत्तर-पश्चिम की ओर 28 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा है।

इतना ही नहीं इससे पहले फ्लोरेंस की पहचान श्रेणी चार के तूफान के तौर पर की गई। बता दे कि श्रेणी चार के तूफान में हवाएं 220 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलती हैं। तूफान फ्लोरेंस की आशंका को ध्यान में रखते हुए 10 लाख लोगों से तूफान की आशंका वाले इलाके से सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए कहा गया है। इस मामले में एनएचसी ने बताया कि तूफान फ्लोरेंस का केंद्र उत्तरी और दक्षिणी कैरोलिना के तट पर गुरुवार को पहुंचेगा। इसके बाद गुरुवार रात या शुक्रवार को यह उत्तरी कैरोलिना और दक्षिणी कैरोलिना के तट को पार कर आगे बढ़ेगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.