fbpx

अभिनंदन को बंदी बनाए जाने के दौरान भारत ने की थी पाकिस्तान के खिलाफ ये बड़ी तैयारी

हाल ही भारतीय वायुसेना के जवान विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान आर्मी ने पकड लिया था। दरअसल सीमा पर पाकिस्तान की करवाई को मुह तोड़ जवाबी देते हुए विंग कमांडर अभिनंदन का प्लान क्रैश हो गया और वो पाकिस्तान जा पहुचे। जिसके बाद उनके पाकिस्तान ने वापस भारत वापस भेज दिया। वही जब विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान में इस दौरान भारत ने एक बड़ा फैसला किया था।

जानकारी एक अनुसारभारत ने पाकिस्तान पर मिसाइल हमले की तैयारी कर ली थी। लेकिन अमेरिका के हस्तक्षेप के बाद भारत ने हमले की शुरुआत न करने का फैसला किया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार भारत, पाक और अमेरिकी सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि दोनों देशों के बीच बढ़ती तनातनी में एक समय ऐसा था जब भारत ने पाक को 6 मिसाइल दागने की चेतावनी दे दी थी।

हाला ही में भारत की एयर स्ट्राइक के अगले दिन यानी 27 फरवरी को पाक वायुसेना द्वारा सीमा लांघे जाने पर भारत ने पाक को सीधे हमले की धमकी दी थी। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के प्रमुख असीम मुनीर से बात की थी। डोभाल ने सख्त लहजे में कहा कि पायलट अभिनंदन भले ही उनकी गिरफ्त में हो, लेकिन आतंकी संगठनों के खिलाफ भारत के रवैये में कोई अंतर नहीं आने वाला। अगर पाक नहीं सुधरा तो उस पर मिसाइलों से हमला किया जाएगा।

दोनों देशों के बीच जब तनाव बढ़ रहा था तब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प उत्तर कोरिया के तानाशाह किम-जोंग-उन के साथ हनोई में मीटिंग कर रहे थे। हालांकि, इसके बावजूद मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन और विदेश मंत्री माइक पोम्पियो भारत के साथ संपर्क में थे।

भारत में तैनात एक विदेश राजनायिक के मुताबिक, अमेरिका की पहली कोशिश पायलट अभिनंदन को छुड़ाने की थी। ऐसे में उसने भारत से आश्वासन लिया कि वह पाक पर हमले के लिए मिसाइलों का इस्तेमाल न करे। बता दे अमेरिका ही नहीं बल्कि चीन, यूएई और दूसरे देशों ने भी दोनों के बीच के तनाव को कम करने के लिए कोशिशें कीं। भारत ने माना कि पाक से तनाव के दौरान कई बड़े देशों के साथ लगातार बातचीत कर रहा था।

28 फरवरी को ट्रम्प ने वियतनाम के हनोई से ही कहा था कि उन्हें लगता है कि भारत-पाक के बीच चल रहा तनाव जल्दी खत्म हो जाएगा। इसके बाद संसद में पाक प्रधानमंत्री इमरान खान ने संसद में कहा कि वह भारतीय पायलट को रिहा करने जा रहे हैं।