fbpx

ईवीएम में नहीं है कोई दोष, 22 देशो के चुनाव अधिकारीयों ने जताई ख़ुशी

भारत में ईवीएम को लेकर नए-नए दावे किये जाते हैं चुनाव कोई भी हारे जिम्मेदार ईवीएम को ही ठहराया जाता है। हर चुनाव के बाद एवीएम की निष्पक्षता पर अनेको सवाल होते हैं, और हर बार एवीएम अपने पैमाने पर खरा उतरता है। भारत जैसे विशाल देश में निष्पक्ष तरीके से चुनाव करवाना कोई आसान काम नहीं है। हर सवाल को जवाब देना पड़ता है। एवीएम पर लगातार उठ रहे सवालों को लेकर चुनाव आयोग ने बड़ा कदम उठाया, चुनाव आयोग ने 22 देश के अधिकारीयों से एवीएम का निरीक्षण करवाया। रविवार को दिल्ली के चुनाव का जायजा लेने के लिए 22 देशों से पहुंचे प्रतिनिधियों ने पोलिंग बूथों पर मतदाताओं, मतदान अधिकारियों और चुनाव अधिकारियों से मिलकर अपना अनुभव साझा करते हुए ये शब्द कहे।

 चुनाव प्रक्रिया में ईवीएम के प्रयोग को देखकर बेहद खुशी हुई। यह सिस्टम बेहद प्रभावी और सुरक्षित है। रूस के चुनाव अधिकारी शेवचेंको नई बताया की उन्होंने 18 पोलिंग बूथ का जायजा लिया और उन्हें ख़ुशी है कि ये प्रक्रिया बेहद सुरक्षित है। इसके साथ ही उन्होंने रूस के परिपेक्ष में बात करते हुए बताया कि, रूस में भी चुनाव कमोवेश ऐसे ही होता है बस हम लोगो ने इसे बायोमैट्रिक से जोड़कर ज्यादा आसान बनाने की कोशिश की गई है। उन्होंने वोट देने के बाद वोट किसे जा रहा है एवीएम के इस सिस्टम पर बेहद ख़ुशी जताई।

 प्रतिनिधिमंडल में रूस, मलयेशिया, मैक्सिको (एन ई), मैक्सिको, म्यांमार, रोमानिया ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, भूटान, बोस्निया, हरजेगोविना, कंबोडिया, कोरिया गणराज्य, फिजी, जॉर्जिया, केन्या आईबीईसी, केन्या, किर्गिस्तान श्रीलंका, सूरीनाम, यूएई और जिंबाब्वे के चुनाव अधिकारी मौजूद थे। इस निरीक्षण के बाद उम्मीद की जा सकती है कि एवीएम को लेकर जो बेबुनियाद सवाल उठाये जा रहें थे उस पर विराम जरूर लगेगा।

Subscribe Our YouTube Channel

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.