SC/ST एक्ट में संशोधन करने की तैयारी, इसी हफ्ते संसद मे पेश होगा संशोधन बिल

केंद्र सारकार एक बार फिर SC/ST एक्ट को अपने पुराने और मूल स्वरुप में वापस लाने की तैयारी में है। केंद्र सरकार संसद के इसी सत्र में SC/ST एक्ट में संशोधन बिल पेश करेगी। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को इस कानून में संशोधन के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी।

सुप्रीम कोर्ट ने इसी साल 20 मार्च के अपने फैसले में इस कानून के प्रावधानों में बदलाव करते हुए दलित मामले में आरोपियों की तत्काल गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी। इस मुद्दे पर कई दलित संगठनों ने 2 अप्रैल को भारत बंद रखा था जिसमे जगह जगह दलित समुदाय ने सड़क पर उतर कर प्रदर्शन किया था। जिसके बाद कई दलित संगठनों ने 9 अगस्त को दूबारा भारत बंद का आह्वान किया था।

संशोधन बिल संसद में इसी हफ्ते पेश किया जाएगा। बिल में उन सभी पुराने प्रावधानों को शामिल किया जाएगा, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में हटा दिया था। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने इस कानून के व्यापक दुरुपयोग का हवाला देते हुए सुप्रीम कहा था कि इस कानून के तहत एफआईआर के बाद भी गिरफ्तारी जरूरी नहीं है। एफआईआर दर्ज करने से पहले एक हफ्ते के अंदर आरोपों की जांच होगी। इसके बाद संबंधित जिले के एसएसपी या डीएसपी की अनुमति से ही एफआईआर दर्ज किया जा सकेगा।

इस फैसले में यह भी कहा गया था कि अगर आरोपी सरकारी कर्मचारी है तो उसे गिरफ्तार करने के लिए पुलिस को पहले उसे नियुक्त करने वाली अथॉरिटी से इजाजत लेनी होगी।

बता दें कि इस मामले पर एनडीए के सहयोगी दल लोक जनशक्ति पार्टी के मुखिया रामविलास पासवान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा था, जिसमे उन्होंने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मोदी सरकार की दलित विरोधी छवि बन रही है। जिसके बाद अब मोदी सरकार ने बिल में संशोधन का फैसला किया है।

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Sourav Shukla

Sourav Shukla is an Indian Journalist. He is an alumni of ISOMES News 24.

Leave a Reply

Your email address will not be published.