fbpx

अफसरों नें मांगा योगी आदित्यनाथ से इस्तीफा,कहा- सरकार सिर्फ ‘गोकशी’ पर दे रही ध्यान

कुछ दिनों पहलें पूरे उत्तरप्रदेश को हिला कर रख देनें वाले बुलंदशहर हत्या कांड में सरकार को पहले से ही विपक्ष हर तरफ से घेर रहा है और सरकार नें इससे बचनें के लिए एसआईटी का भी गठन किया लेकिन फिर भी जनता और कई रिटायर्ड अफसर अभी भी योगी जी से परेशान है और वह उनका इस्तीफा भी मांग रहे है क्योंकि सरकार सिर्फ गोकशी की हत्या पर ही फोकस कर रही है और सब-इंसपेक्टर की मौत की किसी को चिंता नहीं है और उनके मुताबिक योगी जी यह ठीक नहीं कर रहे है।औऱ एक जिम्मेदार मुख्यमंत्री होनें के नाते उन्हें जनता के साथ ऐसा अन्याय नहीं करना चाहिये।

करीब 83 रिटायर्ड नौकरशाहों ने बुलंदशहर हिंसा के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस्तीफा मांगा है। अपने खुले खत में रिटायर्ड अफसरों का कहना है कि योगी आदित्यनाथ ने बुलंदशहर हिंसा को गंभीरता से नहीं लिया।इसके अलावा वह सिर्फ गोकशी केस पर ध्यान दे रहे हैं।

आपको बता दें कि पूर्व नौकरशाहों का ये खत तब सामने आया है जब बुलंदशहर हिंसा की जांच SIT ने पूरी कर ली है।जांच में खुलासा हुआ है कि हिंसा से पहले गोकशी हुई थी। इस आरोप में चार लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का इस्तीफा मांगने वालों में पूर्व अफसर बृजेश कुमार, अदिति मेहता, सुनील मित्रा जैसे बड़े अफसर शामिल हैं। अफसरों ने आरोप लगाया कि बुलंदशहर हिंसा को राजनीतिक रंग दिया गया है। आपको बता दें कि ये खुला खत सोशल मीडिया पर इन दिनों वायरल हो रहा है, इसमें दावा किया गयाहै कि 83 अफसर इनके साथ हैं।

अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने इससे पहले भी कई मसलों पर खुला खत लिखा है। बुलंदशहर हिंसा को लेकर उन्होंने कहा कि एक पुलिस वाले की भीड़ द्वारा हत्या किया जाना बहुत दर्दनाक है,इससे राज्य की कानून व्यवस्था पर कई तरह के सवाल खड़े होते हैं। उन्होंने अपील की है कि इलाहाबाद हाई कोर्ट को इस मामले में संज्ञान लेना चाहिए और हिंसा से जुड़े पूरे मामले की जांच होनी चाहिए।

खैर यह किसी भी सरकार के लिए शर्म की बात है कि उसी के अधिकारी न्याय को तरस रहे है और सरकार अपनी धार्मिक राजनीति को चलते सिर्फ गोकशी की ओर ध्यान दे रही है और इसके पीछे सरकार पर भी सवाल खड़े होते है कि कहीं पुलिस की हत्या करनें वाला सरकार से जुड़ा हुआ तो नहीं था।और अब देखना होगा की इस मामलें में और भी किन-किन लोगों का नाम सामनें आता है और देखना तो यह भी होगा की सरकार इस पत्र का क्या जवाब देती है।

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Siddharth Sharma

siddharth sharma is a budding journalist who has great interest in exploring himself to new trends of journalism and always bring out the new and interesting part in every news and is always dedicated to his work