जिन्हें समर्पित है ‘शिक्षक दिवस’ जाने वो राधाकृष्णन कैसे बने डॉ ‘सर्वपल्ली’ राधाकृष्णन

आज देशभर में स्कूलों और कॉलेज में शिक्षक दिवस जाता है। क्योकि ये पांच सितंबर का दिन गुरु-शिष्य के लिए बेहद ही खास माना जाता है। हर साल पांच सितंबर को भारत समेत दुनिया के कुछ अन्य देशों में शिक्षक दिवस मनाया जाता है। इस अवस पर शिष्य अपने गुरु को विशेष सम्मान देते हैं। शिक्षक दिवस भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन को समर्पित है।

भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति रहे डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म आज ही के दिन साल 1888 में तमिलनाडु के तिरूतनी में हुआ था। वह भारत के पहले उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति थे। राधाकृष्णन की पहचान प्रख्यात शिक्षाविद और महान दार्शनिक के साथ-साथ आस्थावान हिन्दू विचारक के तौर पर की जाती है। देश के लिए राधाकृष्णन के योगदानों को देखते हुए साल 1954 में भारत सरकार ने उन्हें सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से भी सम्मानित किया था।

राधाकृष्णन का निधन 88 साल के उम्र में 17 अप्रैल 1975 को हुआ था। वही उनको नाम को लाकर कहा जाता है कि राधाकृष्णन का नाम सर्वपल्ली राधाकृष्णन उनके गांव से जुड़ा हुआ है। राधाकृष्णन के पूर्वज पहले ‘सर्वपल्ली’ नामक गांव में निवास करते थे। लेकिन 18वीं शताब्दी के दौरान उन्होंने तिरूतनी ग्राम की ओर निष्क्रमण किया था।

लेकिन उनके पुरखों की ऐसी चाहते थी कि उनके नाम के साथ उनके जन्मस्थान का नाम हमेशा के लिए जुडडा रहे। यहीं कारण है कि उनके परिवार के सभी अधिकांश सदस्य अपने नाम के आगे ‘सर्वपल्ली’ लगते हैं।Teacher’s Day, Radhakrishnan, Dr. Sarvapalli Radhakrishnan, India, Sept. 5

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Reply

Your email address will not be published.