शिकागो भाषण में मोदी के वचन,यो ना बोले वन्देमातरम

  • शिकागो भाषण में मोदी के वचन,यो ना बोले वन्देमातरम

खबर_संवाददाता - Sanjeev

On 0000-00-00 00:00:00 2825

स्‍वामी विवेकानंद के शिकागो भाषण के सवा सौ साल पूरे होने के मौके पर दिल्‍ली के विज्ञान भवन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी याद में छात्र सम्‍मेलन को संबोधित किया मोदी ने कहा कि सवा सौ साल पहले का 9/11 विश्‍व विजय दिवस था। उस 9 / 11 को स्‍वामी विवेकानंद ने दुनिया को नया रास्‍ता दिखाया। वे समाज की हर बुराई के खिलाफ आवाज उठाते थे। उन्‍होंने पश्‍चिम को भारत की आध्‍यात्‍मिकता से परिचय कराया था। ये पहला मौका था जब टेलिकास्ट के लिए यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन (UGC) ने पहले ही सर्कुलर जारी किया था।

    शिकागो भाषण में मोदी के वचन,यो ना बोले वन्देमातरम

उन्हें वंदे मातरम बोलने का हक नहीं
 
प्रधानमंत्री ने ख़ुशी जाहिर करते हुए बताया कि देश में ऐसी महिलाएं हैं जिन्‍होंने शौचालय की बिना शादी करने से इंकार कर दिया था। उन्‍होंने सफाई का काम करने वालों को भारत मां की सच्‍ची संतान कहा। मोदी ने कहा,कि जब वो अंदर आये तो उन्होंने सुना सभी पूरी ताकत से वंदे मातरम वंदे मातरम बोल रहे थे, को सुन कर मोदी  उनके रोंगटे खड़े हो जाते हैं। जिसके पी एम् ने कहा, मैं पूरे हिंदुस्‍तान को पूछ रहा हूं क्‍या हमें वंदे मातरम कहने का हक है। मैं जानता हूं मेरी ये बात बहुत लोगों को चोट पहुंचाएगी। 50 बार सोच लीजिए, क्‍या हमें वंदे मातरम कहने का हक है? कुछ लोग पान खा कर भारत मां पर पिचकारी मारे और फिर वंदे मातरम बोलें? कुछ वो लोग सारा कूड़ा कचरा भारत मां पर फेंकेंगे और फिर वंदे मातरम बोलें? इस देश में सबसे पहले किसी को हक है वन्देमातरम का तो देश भर में सफाई का काम करने वाले भारत मां के उन सच्‍चे संतानों को है।

    शिकागो भाषण में मोदी के वचन,यो ना बोले वन्देमातरम

9/11 विश्‍व विजय दिवस की तरह ही मनाये भारत
 
प्रधानमंत्री ने स्‍वामी विवेकानंद पर बयान देते हुए कहा,कि विवेकानंद द्वारा कहे गए शब्‍द- ‘माइ ब्रदर्स एंड सिस्‍टर्स’ से दुनिया को भाइचारे का संदेश मिल रहा है। मोदी ने  कहा कि 1893 का 9/11 प्रेम, सौहार्द और भाइचारे के बारे में था। विवेकानंद ने सामाजिक बुराईयों के खिलाफ आवाज उठायी थी। पीएम ने कहा, आज 9/11 है जिसके बारे में 2001 के बाद काफी चर्चा हुई लेकिन एक 9/11 1893 का है जिसे हम याद करते हैं। दरअसल स्‍वामी विवेकानंद के शिकागो भाषण के सवा सौ साल पूरे होने के मौके पर दिल्‍ली के विज्ञान भवन में पीएम मोदी ने उनकी याद में एक छात्र सम्‍मेलन को संबोधित किया। विवेकानंद के शिकागो भाषण की दुनिया भर में चर्चा हुई थी ।

स्‍वच्‍छ हो हिनुस्तान हमारा
 
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, छात्र राजनीति की दिशा चिंतन का विषय है। उम्‍मीदवारों ने कभी कैंपस साफ रखने की बात नहीं की। इसके बाद उन्‍होंने छात्रों से अपील की कि यूनिवर्सिटी चुनावों के लिए अभियान के दौरान वे स्‍वच्‍छता पर ध्‍यान दें। नियमों का पालन करें तो भारत शासन करेगा। उन्‍होंने कहा स्‍वामी विवेकानंद ने वन एशिया का कंसेप्‍ट दिया था। उन्‍होंने कहा था कि विश्‍व की मुश्‍किलों का हल एशिया से आएगा। इससे पहले रविवार को ट्वीट कर इस संबोधन के थीम ‘यंग इंडिया न्‍यू इंडिया’ की जानकारी दी थी।

चलो महान पुरषो के सपनो का भारत बनाये 
 
मोदी ने सभी से कहा कि आजादी के 75 साल पर संकल्‍प लें गांधी, भगत सिंह और विवेकानंद के सपनों का भारत बनाने की । उन्होंने जनता से आवाहन किया आओ चलो महान आत्‍माओं के सपने का भारत बनाते है। उन्‍होंने साईकिल से देश यात्रा पर निकले नौजवानों की भी बात की। 
इससे पहले प्रधानमंत्री ने रविवार को ट्वीट कर कहा, कल मैं युवा भारत-नया भारत थीम पर छात्रों को संबोधित करने के प्रति उत्सुक हूं। विवेकानंद को युवा शक्ति में दृढ़ विश्वास था और राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका को वह बेहद अहम मानते थे। स्वामी विवेकानंद के विचारों से प्रेरित होकर ही हमारी सरकार युवाओं के सपनों और आकांक्षाओं को साकार करने के लिए लगातार परिश्रम कर रही हैं।
 

ये भी पढ़े- 

पुलिस पर गिरी गाज,सी बी आई जांच के लिए सरकार भी तैयार

राम रहीम के डेरे की तलाशी जारी, अंदर मिली अवैध पटाखा फैक्ट्री सील

राम रहीम के कमरे से मिले इतने कॉन्डोम और मिली सेक्स से जुड़ी यह चीजे

एक और बाबा की तस्वीर वायरल, किसिंग बाबा के नाम से हिट

एक्स ब्वॉयफ्रेंड इम्तियाज खत्री की बर्थ डे पार्टी में नहीं दिखी सुष्मिता और जैकलीन

नींबू एक फायदे अनेक

एकता कपूर की वेब सीरीज रागिनी MMS 2.2 का फर्स्ट लुक रिलीज़,न्यूड दिखी यह अभिनेत्री