गुरुग्राम के स्कूल में हत्या के बाद दिल्ली सरकार ने बनाये नए नियम

  • गुरुग्राम के स्कूल में हत्या के बाद दिल्ली सरकार ने बनाये नए नियम

खबर_संवाददाता - Deepak

On 0000-00-00 00:00:00 3265

गुरुग्राम के मशहूर रेयान इंटरनेशनल में 2 साल के बच्चे की हत्या ने पुरे देश को सोचने पर मजबूर कर दिया की आज हमारे बच्चे कही भी सुरक्षित नहीं और साथ ही एक सवाल भी उठाने के लिए मजबूर कर दिया की फीस के नाम पर मोटी मोटी रकम लेने वाले प्राइवेट स्कूल में भी अगर अगर बच्चे सुरक्षित नहीं है तो कहा होंगे। इन सब विवादों और सवालों के बीच दिल्ली सरकार बैठक बुलाई जिसमे फैसले लिए गए।

बैठक दिल्ली उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने ने कहा कि, "एनसीआर में जो घटनाएं सामने आयी हैं, उनके मद्देनजर लोग अपने बच्चों के स्कूल को लेकर चिंतित हैं। सिसोदिया ने प्राइवेट स्कूल के मालिकों के राजनीतिक संपर्क की बात भी कही"।

 

रेयान के प्रबंधक पर उठाये सवाल

मनीष सिसोदिया ने कहा कि, "रेयान स्कूल में हुई घटना के बाद उन्होंने सीबीआई से जांच की मांग की थी,लेकिन स्कूल प्रबंधको के पोलिटिकल लिंक होने की वजह से ऐसा नहीं करवाया जा रहा। आगे सिसोदिया ने कहा की स्कूल में नहीं चल रहे सीसीटीवी कैमरे स्कूल को भी सवालों की घेरे में लाते है।

 


बैठक के बाद लिए ये अहम् फैसले

सरकारी या गैर सरकारी सभी स्कूलों को अपने स्टाफ का पुलिस वेरिफिकेशन करवाना होगा। ऐसा करवाने के लिए उनके पास 3 हफ्ते का समय हो गया अगर कोई भी स्कूल ऐसा नहीं करवाएगा उसके खिलाफ करवाई किया जाएगा।

 

दिल्ली के ताम स्कूलों को अपने माजूदा स्टाफ की जानकारी हफ्ते भर के अंदर नजदीकी थाने में देना होगा।

डायरेक्टरेट के पोर्टल पर स्टाफ को लेकर सारी जानकारी डालनी होगी, ताकि हमें पता चल सके कि कौन-कौन स्टाफ काम कर रहा है और उसकी पुलिस वेरिफिकेशन की गई है कि नहीं।

सरकारी और गैर सरकारी सभी स्कूलों के हर क्लासरूम में सीसीटीवी लगेगा। स्कूल परिसर में भी करीब-करीब हर जगह सीसीटीवी लगाना होगा। सीसीटीवी सही से काम कर रहे हैं या नहीं इसकी जानकारी हर महीने प्रिंसिपल को देनी होगी।


दिल्ली में बच्ची के साथ रपे

दलेही में हुई 5 साल की बाची स्कूल में हुए रपे के बाद दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, "टैगोर स्कूल को लेकर जो जानकारी मिली है, उसमें पता चला है कि आरोपी रिक्शा चलाता था और खाना भी सप्लाई करता था साथ ही गार्ड का भी काम करता था। मनीष ने कहा की " शुरुआती जानकारी के मुताबिक बच्ची को उस दिन ट्यूशन पढ़ाने के लिए रोका गया था, जबकि शनिवार को सभी स्कूल बंद होते हैं। हम पता करने की कोशिश कर रहे हैं कि आखिर क्यों शनिवार को स्कूल खोला गया और पहली क्लास की बच्ची को किस तरह के ट्यूशन के लिए रोका गया। अभी पूरी रिपोर्ट नहीं आई है, मुझे लगता है कि इस स्कूल में कुछ बड़ी गड़बड़ी है, जिसकी जांच चल रही है. जांच रिपोर्ट में चीजें साफ होने के बाद हम इस स्कूल को छोड़ेंगे नही"।