बलात्कारी बाबा या हत्यारा बाबा..? आज होगी अंतिम सुनवाई

  • बलात्कारी बाबा या हत्यारा बाबा..? आज होगी अंतिम सुनवाई

खबर_संवाददाता - Shaini

On 2017-09-16 09:46:57 3263

20 साल की सजा काट रहा बलात्कारी राम रहीम पर हत्या के दो मामलों को लेकर सुनवाई होगी। राम रहीम पर हत्या के दो आरोप लगे है, दर्ज एफआईआर द्वारा जानकारी मिली है कि राम रहीम ने पत्रकार रामचंद्र छत्रपति और पूर्व डेरा समर्थक रंजीत सिंह की हत्या की है। पंचकूला की विशेष सीबीआई अदालत में सुबह 11 बजे से इस मामले पर अदालत अपना अंतिम सुनाएगी। बता दे कि अपने कुकर्मो की सजा काट रहा राम रहीम रोहतक की सुनारिया जेल में बंद है, जिसके बाद इस मामले की सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होगी। सुनवाई से पहले पंचकूला और सिरसा में सुरक्षा बंदोबस्त दुगने कर दिए गए है।

 

दो केस कौन-से है

पहला केस

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति पूरा सच नाम से अखबार छापते थे। उनका अखबार ही है जिसमें उस साध्वी की चिट्ठी पहली बार छपी थी। इस बहादुर पत्रकार ने बिना डर के बलात्कारी बाबा का पर्दा फाश किया था, और ऐसा पहली बार हुआ था जब किसी ने राम रहीम के बलात्कारी चेहरे को उजागर किया था। आरोप है कि राम रहीम के कहने पर ही पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की अक्टूबर 2002 में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

 

दूसरा केस कौन-सा है

राम रहीम पर हत्या का दूसरा आरोप डेरा के प्रबंधक रंजीत सिंह की हत्या का लगा हुआ है। रंजीत सिंह की भी उसी साल हत्या हुई थी जिस साल पत्रकार की हत्या की गई थी। रंजीत सिंह की बहन के साथ राम रहीम ने बलात्कार किया था और ये बात रंजीत सिंह जानता था। जिस वजह से बलात्कारी बाबा ने रंजीत सिंह की हत्या करवा दी।

 

2003 में हाईकोर्ट ने दिए थे सीबीआई जांच के आदेश

इस बात के आने पर पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने साल 2003 में ही पत्रकार रामचंद्र छत्रपति और रंजीत सिंह की हत्या की सीबीआई जांच कराने के आदेश दिए। जुलाई 2007 में सीबीआई ने इस दोनों ही केस में चार्जशीट दाखिल कर दिया था। अब 10 साल बाद इस पर अंतिम फैसला सुनाया जाएगा, इस केस पर परिवार वाले चाहते है सही फैसला आए।

 

मृतक के परिवाक को है इंसाफ का इंतजार

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के बेटे अंशुल के मुताबिक करीब 15 साल की लंबी लड़ाई के बाद आखिरकार बलात्कारी बाबा को उसके पापो की सजा मिलना एक राहत की बात होगी। पत्रकार के बेटे को उम्मीद है कि जल्द ही कुछ दिनों में सुनवाई पूरी होगी और उनके पिता रामचंद्र छत्रपति को इंसाफ मिलेगा।