बीएचयू में लाठीचार्ज के बाद अधिकारियों की बढ़ी मुसीबत

  • बीएचयू में लाठीचार्ज के बाद अधिकारियों की बढ़ी मुसीबत

खबर_संवाददाता - Shaini

On 2017-09-25 11:00:44 2790

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में चल रहे घमासान के बीच आधी रात को छात्र-छात्राओं पर लाठीचार्ज की गई जिस पर पहली कार्रवाई हुई है। बीएचयू के पास इलाके लंका के एसओ को लाइन हाजिर किया गया है। जैतपुरा के थानाध्यक्ष संजीव मिश्रा को उनकी जगह पर लंका क्षेत्र के नए थानाध्यक्ष बनाए गए हैं।

बता दे कि लंका थाना भेलूपुर सर्किल में आता है। भेलूपुर के सर्किल ऑफिसर निवेश कटियार को भी निरस्त कर दिया गया है। इतना ही नहीं वाराणसी के अपर नगर मजिस्ट्रेट प्रथम सुशील कुमार गोंड का कार्यभार में भी बदलाव किया गया है।

 

राजनीति गर्म नजर आ रही है
बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में छात्रों के आंदोलन में थोड़ी शांति का माहौल तो बना लेकिन राजनीति का माहौल गर्म बन रहा है। वाराणसी से लेकर दिल्ली तक बीएचयू में लड़कियों पर लाठीचार्ज को लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया। दिल्ली में कांग्रेस तो बीएचयू के बाहर एबीपीवी के कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया।

 

आज एसपी का जांच पैनल जाएगा
अभी इस मामले में और भी माहौल के गर्म होने की खबर है। समाजवादी पार्टी का 8 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल इस मामले की जांच के लिए बीएचयू आएगा। इससे पहले कांग्रेस को बीएचयू में घुसने नही दिया था।

 

कांग्रेस के नेता घेरने की तौयारी में
कांग्रेस नेता जमकर विरोध प्रदर्शन कर रहे है। इतना ही नही नेता इस मुद्दे पर योगी सरकार को घेरने की तैयारी कर रहे है। कांग्रेस इस मुद्दे पर योगी सरकार से लेकर प्रधानमंत्री मोदी तक निशाना साध रही है। गुलाम नबी आजाद, राजबब्बर और पीएल पुनिया जैसे नेता वाराणसी में ही मौजूद रहेंगे।

 

राहुल गांधी ने किया ट्वीट
इस के बाद कांग्रेस उपाध्य्क्ष राहुल गांधी ने आगे होकर ट्वीट किया है और बीजेपी पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने ट्वीट किया, "बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का ये भगवा पार्टी का तरीका है। इस हादसे के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना की जांच के आदेश दिए और रिपोर्ट मांगी है।

 

वीसी बोले- बाहरी लोगों ने हिंसा को बढावा को दिया
वही हिंसा को लेकर बीएचयू के कुलपति गिरीश चंद्र ने कतहा कि यह सिर्फ बाहरी लोगों की साजिश है। उनका कहना है कि इस पूरे आंदोलन विश्वविद्यालय के छात्रों की सहभागिता बिल्कुल कम थी। यह हिंसा सिर्फ विश्वविद्यालय का नाम खराब करने के लिए कर रहे है। वीसी ने इस बात को कबूल किया था कि 21 सितंबर को एक लड़की के साथ छेड़खानी की घटना सामने आई थी और इसकी शिकायत थाने में दर्ज कर ली गई है।

 

दिल्ली में भी होगा विरोध प्रदर्शन
बीएचयू में छात्राओं पर लाठीचार्ज करने के बाद छात्र संगठन एनएसयूआई मानव संसाधन विकास मंत्रालय का पूरी तरह से घेराव करने के लिए आगे बढ़ेगा। वहीं आम आदमी पार्टी का छात्र संगठन सीवायएसएस डीयू में आर्ट्स फैकल्टी पर बीएच यू घटना के विरोध में प्रदर्शन करेगा।