अब अरुण शौरी ने किया मोदी सरकार पर हमला,कहा- ढाई लोग लेते हैं सारे फैसले

  •  अब अरुण शौरी ने किया मोदी सरकार पर हमला,कहा- ढाई लोग लेते हैं सारे फैसले

खबर_संवाददाता - Shaini

On 2017-10-04 10:53:14 3269

यशवंत सिन्हा के आवाज उठाने के बाद एक बार फिर बीजेपी के अंदर से मोदी सरकार के खिलाफ आवाज उठी है। वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे अरुण शौरी ने मोदी सरकार के खिलाफ आवाज उठाई है। एक चैनल से बातचीत के दौरान अरुण शौरी ने कहा है कि नोटबंदी लागू करने के पीछ बीजेपी की काले धन को सफेद करने की बड़ी स्कीम थी, जिसके पास भी काला धन था उसने नोटबंदी में उसे सफेद कर लिया।

शौरी ने ये भी कहा है कि बड़े आर्थिक फैसले सिर्फ ढाई लोग लेते हैं, पीएम नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और घर के वकील, उनका निशाना वित्त मंत्री अरुण जेटली पर भी था।

 

अरुण शौरी ने क्या कहा
अरुण शौरी ने कहा, "नोटबंदी के पीछे बहुत बड़ा मक्सद था, और वो था काले धन को सफेद करने का। जिसके पास भी काला धन था उसने सफेद कर लिया। RBI ने कहा कि नोटबंदी के बाद 99 फीसद पुराने नोट वापस आ गए, जिसका मतलब साफ है कि नोटबंदी से काला धन नष्ट नहीं हुआ बल्कि वो सफेट में बदल गया।

जीएसटी का मुद्दा भी उठाया, अरुण शौरी ने कहा, "जीएसटी अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए बड़ा कदम था लेकिन ठीक तरीके लागू नही किया गया। इसे सुचारु रुप से लागू नही किया गया। इतना ही नही बहुत कम समय में बदलाव किए जा रहे है, करीब तीन महीने के अंदर सात बार नियम बदले गए। पूर देश को और आर्थिक नीति को लेकर बड़े फैसले एक चैंबर में बैठकर सिर्फ ढाई लोग ले रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और घर के एक और इस पंक्ति मे उनका इशारा सीधा वित्त मंत्री जेटली की ओर था।

 

जाने कौन हैं अरुण शौरी?
अरुण शौरी 1999-2004 के बीच वाजपेयी सरकार में विनिवेश मंत्री रहे। शौरी के कार्यकाल में BALCO सरकारी कंपनी में विनिवेश हुआ। देश के पहले और आखिरी विनिवेश मंत्री रहे, अभी ये विभाग वित्त मंत्री के पास होता है। वही साल 1998-2004, 2004-2010 दो बार राज्यसभा के सांसद रहे।