रोहिंग्या मुद्दे के बाद आंग सान सू की की बढ़ी मूसीबत, वापस लिया सम्मान

  • रोहिंग्या मुद्दे के बाद आंग सान सू की की बढ़ी मूसीबत, वापस लिया सम्मान

खबर_संवाददाता - Shaini

On 2017-10-04 12:37:58 3298

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी के प्रमुख ने कहा कि म्यामांर, दक्षिणी सूडान और दूसरे स्थानों पर हिंसा की वजह से इस साल यानी 2017 मे 20 लाख से अधिक लोगों को शरणार्थी का जीवन जीने को मजबूर होना पड़ा और देश से बाहर जाना पड़ा। वही साल 2016 के आखिर तक दुनिया भर में अपने घर को छोड़ने को मजबूर हुए लोगों की संख्या 6.56 करोड़ थी और इनमें से 2.25 करोड़ लोग पंजीकृत शरणार्थी हैं। इस मामले के बाद राजनेता आंग सान सू की मूसीबत दुगनी हो गई है। इस मामले को लेकर सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड की तरफ से म्यांमार की नेता आंग सान सू की को दिया गया सम्मान वापस लेने का फैसला लिया गया है। उनके देश में रोहिंग्या मुसलमानों की दुर्दशा की हालत को ध्याम में रखते हुए यह वापस ले लिया गया है। ऑक्सफोर्ड सिटी काउंसिल ने म्यांमार की नेता को लोकतंत्र के लिए लंबा संघर्ष करने को लेकर साल 1997 में “फ्रीडम ऑफ ऑक्सफोर्ड” प्रदान किया था।

हाल ही मे परिषद ने सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित किया कि उनके पास यह सम्मान होना अब उपयुक्त नहीं है। वही ऑक्सफोर्ड सिटी काउंसिल के नेता बॉब प्राइस ने उनका सम्मान वापस लेने के कदम का स्वागत किया और कहा कि यह स्थानीय प्रशासन के लिए “अप्रत्याशित कदम” करार दिया। सिटी काउंसिल इस बात के सत्यापन के लिए 27 नवंबर को एक विशेष बैठक करेगी।