अरुण शौरी के ताने के बाद मोदी पर दिखा बड़ा असर,सुधार सकते है सारी गलतिया

  • अरुण शौरी के ताने के बाद मोदी पर दिखा बड़ा असर,सुधार सकते है सारी गलतिया

खबर_संवाददाता - Shaini

On 2017-10-06 08:36:24 3241

जीएसटी के लागू होने के बाद तमाम नेता ने मोदी सरकार पर हमला किया है, हाल ही अरुण शौरी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि देश के सारे अहम फैसले सिर्फ ढ़ाई लोग लेते है। बता दे कि अरुण का यहा मतलब अमित शाह,पीएम मोदी और अरुण जेटली से है। अरुण शौरी ने साथ ही नोटबंदी फैसले को लेकर भी निशाना साधा। जिसके बाद आज वित्त मंत्री अरुण जेटली की अगुवाई वाली जीएसटी काउंसिल को लेकर एक बैठक की जाएगी जिसमे कई बड़े अहम फैसले कर सकती है। इन फैसलों में हर महीने की जगह 3 महीने में रिटर्न दाखिल करने की सुविधा और कंपोजिशन स्कीम की सीमा 75 लाख से बढ़ाकर एक करोड़ किया जाना शामिल है। बता दे कि बैठक सुबह 10.30 बजे शुरू होगी।

जीएसटी पर ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स के चेयरमैन सुशील मोदी के मुताबिक छोटे व्यापारियों को राहत देने के लिए ये फैसले किए जा सकते हैं।

 

छोटे व्यापारियों को मिल सकती है राहत

जीएसटी के तहत छोटे व्यापारियों को राहत मिलने की उम्मीद है। 1.5 करोड़ रुपये तक टर्नओवर वाले व्यापारी को हर महीने रिटर्न नहीं भरना होगा और आगे से 3 महीने में रिटर्न भरने की सुविधा का एलान हो सकता है। पहले 75 लाख रुपये टर्नओवर वाले व्यापारियों को कंपोजिशन स्कीम में 1 फीसदी टैक्स देना होता होता था उसकी सीमा बढ़ाकर भी 1 करोड़ रुपये तक टर्नओवर वाले व्यापारियों के लिए की जा सकती है। कल जीएसटी काउंसिल की बैठक में इस पर फैसला संभव है।

जीएसटी काउंसिल अगर इन प्रस्तावों पर कदम उठाती है तो छोटे व्यापारियों को बड़ी राहत मिलना तय है। अभी व्यापारियों को हर महीने जीएसटी रिटर्न दाखिल करना होता है, वो तिमाही हो गया तो उनकी बड़ी समस्या दूर हो जाएगी।

वैसे ही कंपोजिशन स्कीम का फायदा अभी 20 से 75 लाख तक के टर्नओवर वालों को मिलता है, अगर ये सीमा बढ़ाकर 1 करोड़ हो गई तो और ज्यादा व्यापारियों को लाभ मिलेगा। जीएसटी की पूर्ण बैठक में जीएसटी नेटवर्क के कामकाज में सुधार का भी आकलन किये जाने की संभावना है।