NSG में भारत को सदस्यता दिलाने के लिए अमेरिका कर रहा जी तोड़ मेहनत

  • NSG में भारत को सदस्यता दिलाने के लिए अमेरिका कर रहा जी तोड़ मेहनत

खबर_संवाददाता - Preeti

On 2018-01-12 15:05:01 83

भारत के साथ अमेरिका अपने घनिष्ठ संबंधो का परिचय दे रहा है। दोनों देशों के संबंध पूरी दुनिया के लिए मिसाल है वहीं NSG में भारत की सदस्यता को लेकर अमेरिका लगातार कोशिश कर रहा है।

अमेरिका ने कहा है कि परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (NSG) में भारत के प्रवेश के लिए उसकी कोशिशें जारी हैं। भारत में अमेरिका के नवनियुक्तम राजदूत केनेथ जस्टर ने गुरुवार को कहा कि हम अपने सहयोगियों के साथ भारत को NSG में प्रवेश दिलाने के मुद्दे पर काम कर रहे हैं। जेस्टर ने अपना पद संभालने के बाद दिए गए पहले सार्वजनिक भाषण में कई अहम मुद्दों पर बात की, जिसमें NSG में भारत की सदस्यईता का मुद्दा भी शामिल था।

बता दें कि 48 देशों वाले इस समूह में भारत के प्रवेश के मुद्दे पर इसके ज्यादातर सदस्य राजी हैं, मगर चीन भारत का लगातार विरोध कर रहा है। तो वहीं भारत भी इसकी सदस्यता हासिल करने के लिए जी-तोड़ प्रयास कर रहा है। भारत ने अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस जैसे देशों का समर्थन हासिल कर रखा है। फिर भी उसकी राह में सबसे बड़ा रोड़ा बनकर चीन खड़ा हो गया है।

चीन नहीं चाहता कि भारत को NSG में प्रवेश मिले। इसके लिए उसने दो शर्तें थोप रखी हैं। सबसे अहम यह है कि जिन देशों ने परमाणु अप्रसार संधि (एनपीटी) पर दस्तखत नहीं किए हैं, उन्हें सदस्यता से महरूम रखा जाए। इसके साथ ही चीन पाकिस्तान को इस मामले में भारत के बराबर आंकता चला आ रहा है। हालांकि इस मुद्दे पर चीन से भारत की बातचीत हो चुकी है। मगर उसका हमेशा से यही राग रहा है कि वह भारत का विरोध नहीं कर रहा है, मगर उसे शर्तें तो माननी होंगी।

 भारत को मिला रुस का साथ

NSG की सदस्यता के मुद्दे पर चीन और पाकिस्तान को झटका देते हुए रूस ने भारत का समर्थन किया है। रूस ने स्‍पष्‍ट रूप से कहा कि NSG की सदस्यता के लिए भारत की पाकिस्तान के साथ तुलना नहीं की जा सकती है।