कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन से निराश कुमारस्वामी मंच पर रो पड़े, छोड़ सकते है मुख्यमंत्री पद

कर्नाटक चुनाव के दौरान हुए सियासी ड्रामे के बाद रविवार सुबह मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने कांग्रेस और जेडीएस के बीच चल रही गठबंधन सरकार में असंतोष जताया है। मुख्यमंत्री कुमारस्वामी को इस गठबंधन सरकार से इतना असंतोष है की वो एक कार्यक्रम में अपने सरकार की मजबूरियां गिनाते गिनाते रो पड़े।

कर्णाटक के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने कार्यक्रम में कहा, “मैं वर्तमान की परिस्थितियों से खुश नहीं हूं। मैं गठबंधन का जहर पी रहा हूं।” कुमारस्वामी ने ये भी कहा कि, चुनाव के बाद उनके कार्यकर्ता काफी खुश थे, उन्हें लग रहा था कि उनके भाई को सीएम बनाया गया है। लेकिन वह आज के हालात से बिकुल भी खुश नहीं हैं।

कुमारस्वामी के सीएम बनने के बाद जेडीएस द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। शनिवार को आयोजित इस कार्यक्रम में कुमारस्वामी ने स्वागत के दौरान माला भी नहीं पहनी। इस दौरान उन्होंने कार्यक्रम में अपने कार्यकर्ताओं से कहा, “जब मैं सीएम बना था तो आप लोग बहुत खुश थे। लेकिन मैं आपसे कहना चाहता हूं कि मैं खुश नहीं हूं। मैं अपने दर्द को पी रहा हूं। गठबंधन का सीएम बनना जहर पीने से कम नहीं है। मैं इन हालात से खुश नहीं हूं।”

कर्णाटक राज्य विधानसभा में अपना पहला बजट पेश करने के बाद कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन के बीच कई तरह के तनाव की खबरें आ रही थी। खासकर किसानों का कर्ज माफ करने के बाद सरकार ने पेट्रोलियम की कीमतों में वृद्धि कर दी थी। जिसके बाद दोनों गठबंधन की पार्टियों के बीच तनातनी और बढ़ गई। वहीं भाजपा ने भी सरकार को निशाना बनाते हुए आरोप जड़ दिया है कि उसने राज्य के तटीय इलाकों के लोगों की अनदेखी की है।

दरअसल कर्नाटक के सीएम कुमारस्वामी के इस भावुक कर देने वाली स्पीच की वजह सोशल मीडिया पर चल रहा एक वीडियो है, जिसमें कर्नाटक के तटीय इलाके का लड़का यह कह रहा है कि कुमारस्वामी उसके सीएम नहीं हैं। राज्य के कोदागू के एक लड़के ने एक वीडियो सोशल मीडिया पर जारी किया था इसमें उसके गांव की सड़क बह गई। लेकिन सीएम को इसकी चिंता ही नहीं है। तटीय इलाकों के मछुआरे के लोन भी माफ नहीं किए गए हैं।

कुमार्स्वानी ने कार्यक्रम में मंच से रोते रोते ये भी कहा कि अगर मैं चाहू तो अभी 2 घंटों के भीतर सिएम का पद छोड़ दूं। आपको बता दें कि इसी वर्ष हुए कर्णाटक चुनाव में किसी भी पार्टी को बहुमत ना मिलने के बाद सरकार बनाने की होड़ तेज हो गई। जहां बहुमत ना मिलने के बावजूद भी भाजपा ने राज्य में सबसे बड़ी पार्टी होते हुए सरकार बनाने का दावा किया तो वहीं कांग्रेस और जेडीएस ने इस को ख़ारिज कर गठबंधन किया और जेडीएस के कुमारस्वामी को कर्नाटक का मुख्यमंत्री बनाया। मगर राज्य में जैसे हालत अभी बने हुए हैं इससे नहीं लगता की ये गठबंधन ज्यादा दिनों तक टिक पाएगी।

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Sourav Shukla

Sourav Shukla is an Indian Journalist. He is an alumni of ISOMES News 24.

Leave a Reply

Your email address will not be published.