fbpx

प्रियंका ने कुछ इस अंदाज में लिया अपने पिता राजीव गाँधी के अपमान का बदला

देश में जारी लोकसभा चुनाव की सरगर्मी के बीच मंगलवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी चुनाव प्रचार के लिए हरियाणा के अंबाला पहुंची। वही यहाँ पर उन्होंने पीएम मोदी द्वारा अपने दिवंगत पिता पर किये हमला का जवाब दिया।

अंबाला चुनावी सभा को संबोधित करते हुए प्रियंका गांधी ने कहा कि मुझे लंबे भाषण की आदत नहीं है, मैं आपसे कुछ दिल की बात कहूंगी। उन्होंने केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि “साल 2014 में भाजपा की सरकार से लोगों को काफी उम्मीदें थी, लेकिन उन्होंने जनता के लिए कुछ नहीं किया। प्रियंका ने कहा कि सरकार ने हर साल दो करोड़ रोजगार पैदा करने की बात कही थी। लेकिन पिछले पांच सालों में रोजगार पैदा करने की बजाय रोजगार कम हुए हैं।”

उन्होंने कहा कि “सरकार के सिर्फ एक फैसले नोटबंदी से 5 लाख रोजगार बर्बाद हो गए। उन्होंने आरोप लगाया कि मनरेगा से गरीबों को रोजगार मिलती थी लेकिन इस सरकार ने उसे दुर्बल बना दिया। प्रियंका ने कहा कि उन्होंने काला धन वापस लाने की बात कही थी लेकिन एक भी रुपया काला धन वापस नहीं आया।”

मोदी सरकार पर हमला जारी रखते हुए प्रियंका ने कहा कि, “पांच साल की सरकार में किसी भी नौजवान को सरकारी रोजगार नहीं मिली। इस सारकार के शासन काल में 24 लाख सरकारी रोजगार खाली हैं। किसानों की आमदनी दोगुनी करने की बात कही गई थी, लेकिन नहीं किया। किसानों की स्थिति बद से बदतर हो गए, 12 हजार किसानों ने आत्महत्या की है।”

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह सिर्फ 70 साल की रट लगा रहे हैं। वह अपनी सरकार की काम-काज पर कुछ नहीं बोलते। वहीं इसके बाद प्रियंका ने अपने मोदी द्वारा अपने पिता राजीव गांधी को भष्टाचारी नंबर 1 कहे जाने पर भी पलटवार किया। उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से पीएम मोदी की तुलना दुर्योधन से करते हुए राष्ट्रकवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’ की कविता का जिक्र किया।

उन्होंने कहा, “जब नाश मनुज पर छाता है, पहले विवेक मर जाता है, हरि ने भीषण हुंकार किया, अपना स्वरूप-विस्तार किया, डगमग-डगमग दिग्गज डोले, भगवान कुपित होकर बोले-जंजीर बढ़ा कर साध मुझे, हां, हां दुर्योधन! बांध मुझे।”

प्रियंका ने कहा, “चुनाव प्रचार में बीजेपी नेता ये नहीं बताते कि जो वादे किए थे, वे पूरे किए या नहीं। कभी शहीदों के नाम पर वोट मांगते हैं, तो कभी मेरे परिवार के शहीद सदस्यों का अपमान करते हैं। उन्होंने मेरे शहीद पिता का अपमान किया है। लेकिन ये चुनाव किसी एक परिवार के लिए नहीं बल्कि उन सभी परिवार के लिए हैं जिनकी उम्मीदें और आशाएं इस प्रधानमंत्री ने तोड़ दी है।”

Subscribe Our YouTube Channel

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.