जानिए एक ऐसे देश के बारे में जहां सेनेटरी पैड के लिए लड़कियां अपना जिस्म बेचती हैं

पीरियड्स और सैनिटरी पैड को लेकर आज भले ही हम कितनी भी जागरुकता फैला रहे हो लेकिन सबसे चौकाने वाली बात ये है कि आज भी दुनिया के कई ऐसे हिस्से हैं जहां आज भी सैनिटरी पैड की काफी कमी हैं नहीं है। मिली जानकारी के अनुसार सिर्फ भारत ही नहीं, दुनिया में कई देश ऐसे हैं, जो पीरियड्स यानी माहवारी के मुद्दे को अब भी शर्म का विषय मानते हैं। इस कारण से दुनिया भर में तमाम प्रयासों के बावजूद इस मामले में लोग अब भी पूरी तरह से जागरूक नहीं हुए हैं।

दरअसल अफ्रीकी महाद्वीप में केन्या जैसे देश की कहानी भी कुछ ऐसी ही है। बता दे यहां पर अब भी महिलाओं के पीरियड्स के जुड़े मुद्दे पर लोग बात नहीं करना चाहते। ऐसा माना जाता हैं कि ये उनके लिए शर्म की बात होती है। हैरानी वाली बात ये है कि केन्या की राजधानी नैरोबी में कई इलाकों में सेनेटरी पैड के लिए महिलाओं और लड़कियों को अपना शरीर भी बेचना पड़ रहा है।

मीडिया रिपोर्ट की माने तो नैरोबी के किबेरा एरिया में करीब 65 फीसदी महिलाएं सिर्फ एक सेनेटरी पैड के लिए अपना शरीर बेचने के लिए मजबूर हैं। जानकारी के लिए बता दे कि एक चैरिटी संस्था के सर्वे में सामने आया है कि पश्चिमी केन्या में करीब 10 फीसदी लड़कियां ऐसी हैं, जिन्होंने शादी से पहले एक पैड के लिए अपने शरीर का सौदा किया है। इतना ही नहीं बल्कि एक रिसर्च ये कहती है कि केन्या की 54 फीसदी लड़कियां को सेनेटरी पैड्स जैसे हाइजीन प्रोडक्ट उपलब्ध नहीं हैं।

वही रिपोर्ट के अनुसार, केन्या में यूनिसेफ के मुख्य अधिकारी का ये कहना है कि ये बात यहां के लिए कोई नई नहीं है। इसके साथ वह ये कहते हैं कि यहां पर कई इलाकों में इतनी गरीबी है कि लड़कियां यहां पर टैक्सी ड्राइवर के साथ भी संबंध बनाने से नहीं हिचकतीं और इसके बदले में इन्हें सेनेटरी आइटम्स जैसी चीजें मिल जाती हैं। इसके पीछे दो वजह है पहली गरीबी और दूसरी हाइजीन प्रोडक्ट्स का न मिलना।

बताना चाहेंगे कि सेनेटरी आइटम्स केन्या में हर जगह नहीं मिलते। खासकर, दूर-दराज के गांवों में तो इनके बारे में सोचा भी नहीं जा सकता। लड़कियों का इन्हें खरीदने के लिए शहर तक जाना असंभव है। पीरियड्स से जुड़े अब भी कई मिथक यहां पर प्रचलित हैं।

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Reply

Your email address will not be published.