जानें शिमला के बारे में कुछ अज्ञात और रोचक बातें..

शिमला जिसकी खूबसूरती के न केवल हमारे देश के वासी बल्की विदेशी भी कायल है। शिमला जहां कि वादियों में व्यक्ति को शांती की प्राप्ती होती है, इस रोजमरा की व्यस्त जिंदगी से वहां सुकून की सांस लेने का मौका मिलता है। तो अब हम आपको शिमला के बारे में कुछ ऐसी बातें बताने वालें हैं जिनसे आप अंजान है।

*  इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ एडवांस्ड स्टडीज- आई.आई.ए.एस के पास सन् 1888 में ही बिजली सप्लाई के लिए अपनी समुचित व्यवस्था थी। इसे सन् 1884 में लॉर्ड डफरिन के आवास हेतु बनवाया गया था, जो आज आई।आई।ए।एस हाउस के तौर पर जाना जाता है।

*  नाथूराम गोडसे का ट्रायल यहीं चला था, जिसे आज पीटरहॉफ होटल के तौर पर जाना जाता है। इस बिल्डिंग में कभी सात वायसराय रहा करते थे, और कभी यहीं से पंजाब का हाईकोर्ट भी चला करता था।

* अंग्रजों से पहले शिमला के क्षेत्र पर नेपाल का शासन चला करता था। शिमला अंग्रेजों से पहले नेपाल के पृथ्वी नारायण शाह के साम्राज्य के अंतर्गत आया करता था। इसे सन् 1864 में ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित किया गया था।

* शिमला को हमारे देश के सबसे जवां और युवा शहर के तौर पर शुमार किया जा सकता है। यहां की 55 प्रतिशत जनसंख्या 16 से 55 के बीच की है और बाकी की बची संख्या में 28 प्रतिशत तो 15 साल से भी नीचे हैं।

* शिमला सात चोटियों पर स्थित है। सर्दियों में प्रोस्पेक्ट हिल, इसके अलावा 6 हिल्स हैं ऑब्जर्वेटरी हिल, समर हिल, इन्वेरार्म हिल, बैंटोनी हिल, जाखू हिल और इलिसियम हिल।

* शिमला एम।टी।बी हिमालया की मेजबानी करता है, जिसे साउथ ईस्ट एशिया के सबसे बड़े और भव्य माउंटेन बाइकिंग रेस के तौर पर जाना जाता है।

* कालका-शिमला रेलवे को यूनेस्को ने वैश्विक धरोहर के तौर पर मान्यता दी है। कालका से शिमला रूट पर 806 पुल हैं और 103 सुरंगें हैं।

* शिमला के भीतर ही छोटा शिमला है और नया शिमला है। इसके अलावा यहां तू-तू है और टूटी कंडी है।

* वाइसरीगल लॉज की तरफ जाने में आपको यैरो मिलेंगे… इन बेहद पुराने बंगलों में कभी मोहम्मद अली जिन्ना का आवास हुआ करता था।

* यहां आप हाथों से बने हुए चाइनीज़ जूतों का ऑर्डर दे सकते हैं। इसके लिए आपको टाटूंग, हॉपसन्स और फूक चुंग में ऑर्डर देना पड़ेगा।

* यहां त्रिशूल पर आपको बेस्ट स्पूनी और जापानी मिल सकता है। इनके पैट्रन्स में प्रीति जिंटा और अनुपम खेर शामिल हैं।

* शिमला के पास पूरे दक्षिण एशिया में एक बर्फीला ग्राउंड है जहां आइस स्केटिंग रिंक है।

*यहां के आननडेल ग्राउंड में सन् 1888 के दौरान डूरंड कप फुटबॉल टूर्नामेंट का आयोजन किया गया था।

* लॉर्ड कौम्बरमेर इंडियन आर्मी का पहला कमांडर-इन-चीफ था जो सन् 1828 में शिमला में पहली बार आया था।

* भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का संस्थापक शिमला के ‘रोथनी कैशल’ नामक जगह पर रहता था। जी हां ए।ओ ह्यूम साहब…

* शिमला का टाउनहॉल सन् 1888 में बना था। यह एक भूकंपरोधी बिल्डिंग है।

* मोहनदास करमचंद गांधी सन् 1921 में 11 मई की तारीख को यहां पहली बार आए थे। उनके साथ पंडित मदन मोहन मालवीय और लाला लाजपत राय भी थे।

* ऐसा कहा जाता है कि आई।जी।एम।सी के कोरिडोर पर भूतों का कब्जा है। यहां रहने वाले लोगों का कहना है कि कई बर वे लोगों को धकेलते हैं तो वहीं कई बार वे लिफ्ट रोक देते हैं। तो वहां कई बार वे लोगों को नाम से पुकारते भी हैं।

* यहां के नव बहार के पास एक चुडैंल बावली नामक जगह है जो गैर शादी-शुदा लड़कों को उसकी ओर आकर्षित करती है। ऐसा कहा जाता हैं कि यहां कारें ख़ुद-ब-ख़ुद रुक जाती हैं और लोग उनकी पिछली सीट पर किसी सफेद साड़ी में लिपटी औरत को महसूस करते हैं।

* शिमला अनुपम खेर, प्रेम चोपड़ा, बलराज साहनी और प्रिया राजवंश जैसे बॉलीवुड के दिग्गजों की जन्मभूमि है।

* यहां के विश्व प्रसिद्ध जाखू मंदिर को लेकर लोगों के बीच ऐसी मान्यता है कि यहां कभी हनुमान रुके थे और वहां उनके कदमों की छाप देखी जा सकती है।

*यहां का द हाउलमे भारत की प्रख्यात कलाकारा अमृता शेरगिल के पलने-बढ़ने और उनके बचपन बिताने वाली जगह है। इस घर में एक स्टूडियो भी है जिसे उनके पिता ने बड़े ही जतन से बनवाया था।

*यहां एक मारिया ब्रदर्स के नाम से किताबों की बहुत पुरानी दुकान है जहां 16वीं-17वीं सदी के तिब्बती पांडुलिपि “आर्य आस्था साहश्रिकास प्रज्ञा परमिता” सुरक्षित रखी हैं।इसे सोने और चांदी के स्याही से लिखा गया था।

* शिमला में पहली खोली गई दुकान एक कसाईखाने की दुकान थी जिसे मेसर्स बैरेट एंड कंपनी ने खोला था।

* ऑकलैंड हाउस स्कूल भारत का एक मात्र ऐसा गर्ल्स स्कूल है जहां स्कूबा डाइविंग की भी सुविधा है।

 

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
error: Content is protected !!