संभोग से मिलने वाले आनंद को इस तरह नापेगा ये मीटर !

लोगों के ऑर्गेज्म को मापने के लिए उपकरण बनाया गया है। इसका नाम ऑर्गेज़्मोमीटर है इसका मतलब है ऑर्गेज़म को मापना है। रोम टोर वर्गेटा यूनिवर्सिटी में मेडिकल सेक्सोलॉजी के प्रोफ़ेसर इमैनुएल जनीनी ने बताया कि जिस तरह दर्द को मापने के लिए कोई उपकरण नहीं है उसी तरह से ऑर्गेज़्म को मापने के लिए भी कोई मशीन या उपकरण नहीं है। आपको तो पता ही है कि ऑर्गेज़्म या दर्द हर किसी के लिए अलग-अलग होता है।

दरअसल ये इंसान के निजी अनुभव पर निर्भर करता है। इसलिए ही इसको मापने के लिए एक स्केल का इस्तेमाल किया गया है। वैसे तो हम सब जानते है कि दुनिया भर में दर्दनिवारक दवाइयों को एनालॉग स्केल के तहत मापकर ही बेचा जाता है। बता दें कि दर्द और आनंद दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू होते हैं। इनको मापने के लिए किसी मशीन की जगह स्केल का उपयोग किया जा सकता है। जिस तरह के स्केल से दर्द की मात्रा का पता लगाया जाता है उसी प्रकार से स्केल के ज़रिए ऑर्गेज़्म की मात्रा भी मापी जा सकती है।

बता दें कि इसके पीछे कारण है कि इन दोनों एहसासों का संबंध दिमाग़ के एक ही हिस्से से होता है। यौन संबंध के बारे में ‘महिलाओं में यौन सुख के लिए क्लिटोरिस सबसे अहम हिस्सा होता है। इसके द्वारा उत्तेजना पैदा की जाती है लेकिन इससे हमेशा उत्तेजना की जाये ऐसा जरूरी नहीं है। बलात्कार जैसे मामलों क्लिटोरिस के ज़रिए उत्तेजना पैदा करने की कोशिश की जाती है, लेकिन दिमाग हमें संदेश भेज देता है कि इस यौन संबंध में दर्द है आनंद नहीं। तो वैज्ञानिक यही जानने की कोशिश कर रहे है कि इसके आंनद को कैसे मापा जा सकता है।

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Reply

Your email address will not be published.